बच्चों में साइनस क्यों होता है जानिए कारण और बचाव

cover-image
बच्चों में साइनस क्यों होता है जानिए कारण और बचाव

बच्चों में सर्दी जुकाम होना सामान्य होता है। लेकिन अगर बार-बार खांसी, जुकाम हो तो यह साइनस का कारण बन जाता है। बच्चों का यह जुकाम अगर लंबे समय तक बना रहता है। तो इसकी वजह से बच्चों को सिरदर्द, बुखार की समस्या रहती है।

 

साइनस क्या होता है

साइनस का सीधा संबंध नाक से है, हमारी नाक की हड्डी में चार खाली जगह होती है। चिकित्सा भाषा में इसे मैक्लेरी साइनोसाइटिस कहा जाता है। सर्दी जुकाम होने की वजह से नाक की अंदर की आस-पास सूजन आ जाती है। इस सूजन की वजह से बच्चों को काफी तकलीफ होती है। बच्चों में साइनस की यह समस्या 2 से 5 साल की उम्र में होना शुरू होती है।

 

बच्चों में साइनस के कारण

  • सर्दी जुकाम का ठीक नहीं होना।
  • प्रदूषण और धूल की वजह से।
  • साइनस संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से।
  • कुपोषण होना।
  • साफ-सफाई नहीं रखना।
  • गंदे हाथों से खा ले।
  • बहुत ज्यादा ठंडी चीजों का सेवन नहीं करना।

 

साइनस के लक्षण

  • नाक और आंख में सूजन।
  • दो से तीन सप्ताह तक जुकाम रहना।
  • आंखों के नीचे काले घेरे होना।
  • सिरदर्द बना रहना।
  • बुखार आना।
  • उल्टी महसूस होना
  • साइनस के उपचार

 

अगर बच्चों में ऐसे कोई भी लक्षण दिखें तो तुरंत डॉक्टर से सलाह ले। ऐसी स्थिति होने पर डॉक्टर परीक्षण करके पता लगा सकते हैं कि इसका कैसे इलाज किया जाए। हालिकी कुछ घरेलू नुस्खे हैं जिनके जरिए साइनस से राहत मिल सकती है।

  • बच्चों को रात में सोने से पहले रोजाना स्टीम दिलाएं। इससे नाक में जमी गंदगी बाहर निकलती है। साइनस की वजह से सूजन भी कम होती है।
  • गर्म पानी के सेवन से जुकाम में राहत मिलती है बच्चों को गर्म पानी और नमक मिलाकर दे।
  • गरारे करने से नाक में भी आराम मिलता है, बच्चों को गर्म पानी के गरारे अवश्य कराएं।
  • हल्दी वाला दूध बच्चों की इम्यूनिटी के लिए बहुत फायदेमंद होता है।

 

अगर बच्चों की यह समस्या ज्यादा गंभीर है तो डॉक्टर को तुरंत दिखाएं।

#childhealth
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!