• Home  /  
  • Learn  /  
  • गर्भावस्था में कम रक्तचाप की समस्या क्या शिशु को किसी बीमारी का बना देगी शिकार?
गर्भावस्था में कम रक्तचाप की समस्या क्या शिशु को किसी बीमारी का बना देगी शिकार?

गर्भावस्था में कम रक्तचाप की समस्या क्या शिशु को किसी बीमारी का बना देगी शिकार?

17 Feb 2022 | 1 min Read

Ankita Mishra

Author | 279 Articles

गर्भावस्था का अनुभव जितना सुखद होता है, इसका सफर उतने ही उतार-चढ़ाव से भरा होता है। गर्भवती महिला शारीरिक तौर पर कई बदलावों से गुजरती है। इनमें जहां कुछ बदलाव सामान्य होते हैं, तो वहीं कुछ बदलाव चिंता का विषय भी होते हैं। इन्हीं में से एक है गर्भावस्था में कम रक्तचाप। अगर प्रेग्नेंसी के दौरान लो ब्लड शुगर की समस्या हो जाए, तो इसका गर्भवती व उसके शिशु पर कैसा प्रभाव हो सकता है, इसी की जानकारी आप इस लेख में पढ़ेंगे। साथ ही इसके कारण, लक्षण और उपाय के बारे में भी बात करेंगे।

गर्भावस्था के दौरान कम रक्तचाप क्या है?

गर्भावस्था या सामान्य दिनों के दौरान एक महिला के रक्तचाप का सामान्य स्तर 120/80 MMHG माना जाता है। यह रक्तचाप की इकाई होती है। वहीं, अगर गर्भावस्था के दौरान महिला का यह स्तर 90/60 MMHG से कम हो जाए, तो इसे गर्भावस्था के दौरान कम रक्तचाप की समस्या कही जा सकती है।

सामान्य बोल-चाल भाषा में इसे लो बीपी की समस्या व मेडिकल टर्म में इसे लो ब्लड प्रेशर (Low Blood Pressure) व हाइपोटेंशन (Hypotension) भी कहा जाता है।

गर्भावस्था में कम रक्तचाप का खतरा कब अधिक हो जाता है?

निम्नलिखित स्थितियों में गर्भवती महिलाओं को हाइपोटेंशन का खतरा सबसे अधिक हो जाता है:

  • प्रेग्नेंसी के 8वें से 16वें सप्ताह के बीच यानी पहली तिमाही के आखिरी सप्ताह के चरण में गर्भवतियों में निम्न रक्तचाप होने का जोखिम अधिक हो सकता है।
  • इसके अलावा, अगर गर्भावस्था के दौरान महिला बहुत ज्यादा बीमार रहती है या शारीरिक रूप से बहुत कमजोर होती है, तो भी गर्भवती महिलाओं का रक्तचाप लेवल कम हो सकता है।
  • साथ ही, अगर गर्भावस्था से पहले महिला में निम्न रक्तचाप लेवल का इतिहास रहा है, तो इसकी संभावना बढ़ जाती है कि गर्भावस्था में उसे इसका सामना करना पड़ सकता है।

गर्भवती महिलाओं में निम्न रक्तचाप लेवल के कारण क्या हैं?

गर्भावस्था के दौरान लो ब्लड प्रेशर होने के कई कारण हैं, जिनमें शामिल हैं:

1. स्पाइनल हाइपोटेंशन – स्पाइनल हाइपोटेंशन (Spinal Hypotension) तब होता है जब गर्भवती सहारा लेकर बैठती या लेटती है। इस वजह से उसकी नसों और महाधमनी जैसी रक्त वाहिकाओं पर दबाव पड़ सकता है, जिससे शरीर के निचले हिस्से खासकर पैरों की नसों में खून का बहाव कम हो सकता है। इससे शरीर में रक्तचाप का स्तर अचानक से कम हो सकता है।

2. बढ़ता गर्भाशय – भ्रूण के बढ़ते आकार की वजह से गर्भाशय का भी विकास होता है, जिससे पेट के निचले हिस्से पर दबाव बनता है। इस वजह से भी इन हिस्सों में खून का प्रवाह प्रभावित हो सकता है, जो गर्भावस्था में निम्न रक्तचाप का कारण बन सकता है।

3. शारीरिक अवस्था में बदलाव – अगर गर्भवती लंबे समय तक एक ही अवस्था में बैठी रहे या लेटी रहे और फिर अचानक से खड़ी हो जाए, तो इस वजह से भी शरीर में रक्तचाप का स्तर घट सकता है। अचानक खड़े होने पर मस्तिष्क और हृदय तक रक्त का सामान्य प्रवाह पहुंचने में कुछ समय लग सकता है, जिस वजह से ऐसा करने पर रक्तचाप घट जाता है।

4. हार्मोनल परिवर्तन – गर्भावस्था के दौरान कम रक्तचाप के पीछे एक कारण है, वह है हार्मोनल परिवर्तन। यह परिवर्तन शरीर में रक्त का प्रवाह प्रभावित कर सकता है।

5. डिहाइड्रेशन होना – गर्भावस्था के शुरुआती दिनों में बार-बार उल्टी आने की समस्या होती है। इससे शरीर में तरल पदार्थ की मात्रा घट सकती है, जो निम्न रक्तचाप का कारण बन सकता है।

6. खून की कमी होना – अगर गर्भावस्था के दौरान खून की कमी यानि एनिमिया की समस्या होती है, तो यह भी इस दौरान निम्न रक्तचाप का कारण बन सकती है।

7. हाइपोग्लाइसीमिया – यह एक ऐसी स्थिति है जिसमें शरीर में रक्त शर्करा का स्तर कम हो जाता है। अगर गर्भवती को हाइपोग्लाइसीमिया (Hyperglycaemia) होता है, तो यह भी गर्भावस्था में निम्न रक्तचाप का कारण बन सकती है।

8. हृदय का खराब स्वास्थ्य – अगर गर्भवती महिला को पहले से ही या गर्भावस्था के दौरान हृदय से संबंधित कोई परेशानी होती है, तो यह भी रक्तचाप का स्तर कम कर सकता है।

गर्भावस्था के निम्न रक्तचाप के लक्षण क्या हैं?

गर्भावस्था के दौरान कम ब्लड प्रेशर लेवल के लक्षण निम्नलिखित हैंः

  • जी मिचलाना
  • चक्कर आना
  • धुंधला दिखाई देना
  • सांस लेने में परेशानी होना
  • बहुत ज्यादा थकान महसूस करना
  • बार-बार प्यास लगना
  • ठंड लगना
  • त्वचा में रंगा पीला होना
  • अचानक से खड़े होने पर चक्कर आने जैसा अनुभव होना

गर्भवती महिलाओं का रक्तचाप लेवल कम होने पर उसका निदान

सामान्य तौर पर रक्तचाप के स्तर की जांच करने के लिए स्फाइगनोमैनोमीटर (Sphygmomanometer) का इस्तेमाल किया जाता है। यह एक तरह का मेडिकल उपकरण है, जिसे ब्लड प्रेशर मशीन भी कहा जाता है। इसी उपकरण के जरिए गर्भवती महिलाओं का रक्तचाप लेवल जांच किया जा सकता है।

क्या गर्भावस्था में कम रक्तचाप की समस्या शिशु को किसी बीमारी का शिकार बना सकती है? जानने के लिए स्क्रॉल करें।

गर्भावस्था में कम रक्तचाप के स्तर का बच्चे पर प्रभाव

आमतौर पर गर्भावस्था के दौरान लो बीपी की समस्या मां या बच्चे के लिए किसी तरह से घातक नहीं है। हालांकि, अगर इसकी समस्या गंभीर हो जाए, तो भ्रूण तक पहुंचने वाले रक्त का प्रवाह व ऑक्सीजन का स्तर प्रभावित हो सकता है, जो उसके स्वास्थ्य के लिए जोखिम उत्पन्न कर सकता है।

इसके अलावा, जैसा लेख में बता चुके हैं कि लो बीपी होने पर गर्भवती महिला को चक्कर आ सकते हैं। इस वजह से वह गिर सकती है। ऐसी स्थिति में मां के साथ भ्रूण को भी चोट लगने का जोखिम अधिक हो जाता है।

गर्भावस्था के दौरान कम रक्तचाप के लिए इलाज व घरेलू उपचार

अगर गर्भावस्था के दौरान किसी महिला के रक्तचाप का स्तर कम होता है, तो वह यहां बताई गई बातों का ध्यान रखकर इसका इलाज कर सकती है, जैसे:

1. तरल पेय – गर्भावस्था के दौरान बार-बार उल्टी आने से डिहाइड्रेशन हो सकता है, जो निम्न रक्तचाप को जन्म दे सकता है। इससे बचने के लिए गर्भवती को भरपूर मात्रा में तरल पेय पीना चाहिए। इसके लिए वह ताजे फलों व सब्जियों के जूस को अपने आहार में शामिल कर सकती है।

2. चुकंदर का रस – एक रिसर्च के अनुसार, चुकंदर का रस न सिर्फ शरीर में खून की कमी को दूर कर सकता है, बल्कि डिहाइड्रेशन की समस्या को भी दूर करके शरीर के रक्तचाप के स्तर को सामान्य कर सकता है।

3. नमक का पानी – बीपी कम होने पर चीनी व नमक के मिश्रण वाला पानी भी पिया जा सकता है। इसमें नमक में पाया जाने वाला सोडियम कारगर होता है, क्योंकि सोडियम की मात्रा शरीर में रक्तचाप का स्तर बढ़ाने में मदद करता है। इसकी पुष्टि इस पेपर से भी होती है।

4. कॉफी – कॉफी पीने से रक्तचाप का स्तर तेजी से बढ़ाया जा सकता है। हालांकि, ध्यान रखें कि गर्भावस्था के दौरान कॉफी की मात्रा सीमित ही रखें। दिनभर में 1 से 2 कफ कॉफी का ही सेवन करें।

5. मुरब्बा – ऐसा भी माना जाता है कि आंवले या सेब का मुरब्बा खाने से भी लो ब्लड प्रेशर की समस्या को दूर किया जा सकता है।

6. खजूर – गर्भवती महिलाएं सुबह व शाम के समय दूध के साथ 1-1 खजूर खा सकती हैं। इससे भी निम्न रक्तचाप का स्तर बढ़ाया जा सकता है।

7. अदरक – नेशनल सेंटर फॉर बायोटेक्नोलॉजी (NCBI) की रिसर्च में बताया गया है कि खाना खाने से पहले थोड़ी-थोड़ी मात्रा में एक अदरक के छोटे टुकड़े पर नींबू का रस और सेंधा नमक लगाकर खाने से कम रक्तचाप को बढ़ाया जा सकता है।

8. उचित आराम करें – गर्भावस्था के दौरान शारीरिक रूप से भरपूर आराम करें। उठने-बैठने या खड़े होनें में जल्दबाजी न करें और न ही बहुत देर तक एक ही अवस्था में बैठे या लेटे रहें।

इस लेख में बताए गए उपायों के अलावा, गर्भवती महिला को अपने खान-पान का ध्यान रखना चाहिए। अगर गर्भावस्था में कम रक्तचाप की समस्या गंभीर होती दिखाई दे, तो तुरंत डॉक्टर से मिले और इसका उचित उपचार कराएं। साथ ही, इस दौरान डॉक्टर द्वारा निर्देशित दवाओं के खुराक को भी नियमित रूप से लेती रहें और गर्भावस्था में किसी भी समस्या के लिए घरेलू उपचार करने से पहले डॉक्टर की सलाह को प्राथमिकता जरूर दें।

#garbhavastha #lowbloodpressure #momhealth

Home - daily HomeArtboard Community Articles Stories Shop Shop