• Home  /  
  • Learn  /  
  • छोटे बच्चे का पेट दर्द से रो-रो कर है बुरा हाल, इन नेचुरल ऑयल का करें इस्तेमाल
छोटे बच्चे का पेट दर्द से रो-रो कर है बुरा हाल, इन नेचुरल ऑयल का करें इस्तेमाल

छोटे बच्चे का पेट दर्द से रो-रो कर है बुरा हाल, इन नेचुरल ऑयल का करें इस्तेमाल

20 Jun 2022 | 1 min Read

Mona Narang

Author | 171 Articles

छोटे बच्चों में पेट संबंधित परेशानियां बहुत रहती हैं। अक्सर देखा जाता है कि वे पेट दर्द या गैस की समस्या होने पर चिड़चिड़े हो जाते हैं व घंटों रोते रहते हैं। बच्चा अपनी परेशानी को बोलकर तो समझा नहीं सकता, जिस वजह से पेरेंट्स के लिए उनकी दिक्कत को समझना ओर भी मुश्किल हो जाता है। इस आर्टिकल में हम छोटे बच्चे को पेट दर्द क्यों होता है व इसे ठीक करने के उपाय के बारे में विस्तार से जानेंगे। साथ ही पेरेंट्स बच्चे की परेशानी का कैसे पता लगाएं, इसके बारे में भी बताएंगे।

छोटे बच्चे को पेट दर्द होने के कारण (Causes Of Stomach Ache in Kids in Hindi)

छोटे बच्चे के पेट में दर्द होने के क्या कारण हो सकते हैं, नीचे इससे संबंधित जानकारी दे रहे हैं।

  • शिशु को स्तनपान कराने के बाद डकार न दिलवाने पर उनमें गैस की परेशानी हो सकती है। इसकी वजह से बच्चे को पेट में दर्द हो सकता है।
  • यदि बच्चे की गर्भनाल, नाभी से हट जाए, तो इससे भी पेट दर्द की शिकायत हो सकती है।
  • शिशु के पेट में दर्द होने का एक कारण कब्ज हो सकता है।
  • कई दफा एसिड रिफ्लक्स के कारण शिशु को पेट में दर्द हो सकता है। इसमें पेट से एसिड वापस एसोफैगस यानी भोजन नली में आने लगता है। 
  • अगर बच्चा लंबे समय से भूखा है, तो भी बच्चे के पेट में मरोड़ पड़ने के कारण दर्द हो सकता है। इसके विपरीत यदि बच्चे को अधिक दूध पिलाएंगी, तो इस स्थिति में शिशु को पेट में मरोड़ व दर्द की समस्या हो सकती है।
  • मौसम के बदलने पर भी शिशु को अक्सर पेट दर्द हो सकता है।
  • 30 प्रतिशत शिशुओं को तीन से छह महीने में कोलिक पेन के कारण पेट में दर्द होता है।

शिशु के पेट में तकलीफ के लक्षण (Symptoms of Stomach Related Problems in Kids in Hindi)

शिशु को पंट संबंधित परेशानी होने पर निम्नलिखित लक्षण नजर आ सकते हैं:

छोटे बच्चे को पेट दर्द
पेट दर्द से परेशान बच्चा/ चित्र स्रोत: फ्रीपिक
  • शिशु का बार-बार पैरों को पेट की तरफ मोड़ना, पेट दर्द का संकेत हो सकता है।
  • शिशु की पेट की मांसपेशियों का सख्त हो जाना।
  • शिशु के पेट पर हाथ न लगाने देना व पेट पर हाथ लगाते ही रोना।
  • यदि शिशु ठीक से दूध नहीं पीता है या दूध पीते-पीते बीच में छोड़ देता है।
  • शिशु के पेट में दर्द का एक लक्षण सामान्य से अधिक रोना हो सकता है।

शिशु के पेट दर्द को कैसे ठीक करें? (How to Cure Baby Stomach Ache in Hindi)

शिशु के पेट दर्द को ठीक करने के लिए नेचुरल ऑयल से उनके पेट की मालिश करनी चाहिए। यह बच्चे को अपच, कोलिक, एसिड रिफलक्स, कब्ज आदि से राहत प्रदान कर सकते हैं। यह शिशु की पेट की मांसपेशियों को आराम दिलाने के साथ पेट में दर्द व अकड़न को दूर करने में अहम भूमिका निभाते हैं। बच्चों के पेट दर्द के लिए नीचे दिए गए ऑयल का प्रयोग लाभकारी होता है। 

छोटे बच्चे को पेट दर्द
खेलते हुए शिशु/ चित्र स्रोत: फ्रीपिक
  • हींग का तेल शिशु को ब्लोटिंग यानी पेट का फूलने से राहत दिलाता है।
  • अदरक का तेल शिशु के पेट दर्द को कम कर पेट की मांसपेशियों को रिलैक्स करता है।
  • सौंफ का तेल शिशुओं में अपच की समस्या को दूर करने के साथ पेट दर्द को कम करता है। साथ ही मांसपेशियों को आराम पहुंचाता है।
  • पुदीने का तेल शिशु में गैस और पेट फूलने की परेशानी को दूर करने का कारगर इलाज है।
  • जायफल का तेल पाचन संबंधित परेशानियों को दूर करने के साथ मांसपेशियों के दर्द को दूर करने के लिए प्रभावी माना जाता है।
  • ओर्गेनिक कोकोनट ऑयल शिशुओं में पेट दर्द  और ऐंठन के लिए बेहद उपयोगी होता है।

शिशु के पेट दर्द में राहत दिलाएगा टमी रिलीफ रोल ऑन

शिशुओं में पेट दर्द किस कारण से हो रहा है, इसका पता लगा पाना पेरेंट्स के लिए कई दफा मुश्किल पैदा कर देता है। इसके लिए पेरेंट्स ‘बेबी चक्रा’ द्वारा उत्पादित टमी रिलीफ रोल ऑन का इस्तेमाल कर सकते हैं।

कंपनी का दावा है कि यह रोल ऑन डर्मेटोलॉजिस्ट टेस्टेड है। बच्चे के लिए इसका इस्तेमाल पूरी तरह सुरक्षित है। यह बच्चे के पेट में  बेचैनी, कोलिक, गैस, अपच, कब्ज आदि के कारण होने वाले दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है। इसे हींग का तेल, अदरक का तेल, सौंफ का तेल, पुदीने का तेल, जायफल का तेल और ओर्गेनिक नारियल तेल से तैयार किया गया है। इसमें किसी तरह के टॉक्सिन्स और केमिकल्स को नहीं मिलाया गया है। इसमें 100 प्रतिशत नैचुरल ऑयल का इस्तेमाल किया गया है।

इस लेख को पढ़ने के बाद आप समझ गए होंगे कि शिशु तो अपने पेट में दर्द के बारे में नहीं बता सकता। लेकिन पेरेंट्स अपने बच्चे की इस परेशानी को कैसे समझ सकते हैं। साथ ही लेख में बच्चे के पेट दर्द को दूर कैसे किया जाए, इसकी भी जानकारी दी गई है। यदि इसके बाद भी शिशु के पेट में दर्द ठीक नहीं होता है और वह लगातार रोता रहता है, तो बिना देरी करें बाल विशेषज्ञ से संपर्क करें।

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop