World Population Day: बर्थ कंट्रोल करने के तरीके

World Population Day: बर्थ कंट्रोल करने के तरीके

7 Jul 2022 | 1 min Read

Vinita Pangeni

Author | 554 Articles

बर्थ कंट्रोल (contraception) एक ऐसा तरीका है, जिसका उपयोग प्रेगनेंसी से बचने के लिए किया जाता है। आज विश्व जनसंख्या दिवस पर हम विभिन्न तरह के बर्थ कंट्रोल करने के तरीके (birth control method) बता रहे हैं। बहुत से लोगों को आज भी सारे बर्थ कंट्रोल मेथड की जानकारी नहीं है। यही कारण है कि आज हम अनचाही प्रेगनेंसी से बचने के लिए सभी जन्म नियंत्रण के तरीकों का जिक्र यहां करेंगे।

जन्म नियंत्रण विकल्प – Birth Control Options

अलग-अलग प्रकार के जन्म नियंत्रण विधियों से जुड़ी जानकारी हासिल करके आप अपने लिए बेस्ट बर्थ कंट्रोल मेथड चुन सकते हैं। गर्भावस्था को रोकने में सबसे प्रभावी से लेकर कम प्रभावी तरिके का क्रम कुछ इस प्रकार है – 

महिला और पुरुष नसबंदी – Female tubal ligation or occlusion and Male vasectomy

महिला और पुरुष नसबंदी (Female and male sterilization) से जन्म नियंत्रण स्थायी रूप से हो जाता है। अगर भविष्य में गर्भधारण करने की योजना नहीं बनानी ही, तो यह स्थायी बर्थ कंट्रोल मेथड (Permanent birth control method) के बारे में सोचा जा सकता है। इसके लिए एक छोटी-सी चिकित्सकिय प्रक्रिया से गुजरना पड़ता है।

अंतर्गर्भाशयी उपकरण और हार्मोनल प्रत्यारोपण – Long-acting reversible contraceptives

अस्थायी रूप से बर्थ कंट्रोल करने की सोच रहे हैं, तो अंतर्गर्भाशयी उपकरण या हार्मोनल प्रत्यारोपण के बारे में सोच सकते हैं। बर्थ कंट्रोल के लिए डॉक्टर यह उपकरण शरीर में डालता है। यह उपकरण एक बार शरीर में जाने के बाद आप महीनों या सालों तक जन्म नियंत्रण की चिंता से मुक्त हो सकते हैं।

शॉर्ट-एक्टिंग हार्मोनल मेथड – Short-acting hormonal methods

कम समय के लिए प्रभावी जन्म नियंत्रण तरीके बहुत सारे हैं। सबसे कम समय के लिए काम गर्भनिरोधक गोली काम करती है। इसमें गोलियां (pills) और छोटी गोलियां (mini Pills) सब शामिल हैं। यह रोजाना लेनी होती है। इसके अलावा अन्य शॉर्ट टर्म बर्थ कंट्रोल मेथड कुछ ऐसे हैं –  

पैच – Patch

जन्म नियंत्रण पैच एक चिपकने वाली थैली जैसी होती है। ये पैच जन्म नियंत्रण की गोलियों की तरह ही हार्मोन रिलीज करके बर्थ कंट्रोल करते हैं। जब आप अपनी त्वचा पर पैच लगाते हैं, तो एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टिन हार्मोन स्किन के माध्यम से शरीर में प्रवेश करते हैं। हार्मोन ओव्यूलेशन को रोकते हैं, ताकि अंडे रिलीज न हों और आप गर्भवती न हो सकें। प्रत्येक पैच एक सप्ताह तक काम करता है। 

इंजेक्शन – Shot 

जन्म नियंत्रण का एक तरीका इंजेक्शन भी है। यह हार्मोन प्रोजेस्टिन की एक खुराक होती है। यह इंजेक्शन लेने के लिए डॉक्टर के पास जाना होगा। हर शॉट 12 से 15 हफ्ते तक काम कर सकता है। फिर दोबारा बर्थ कंट्रोल शॉट यानी इंजेक्शन लेने के लिए आपको हर 3 महीने में डॉक्टर के पास जाना होगा।

World Population Day: बर्थ कंट्रोल करने के तरीके | Birth Control Methods in Hindi
बर्थ कंट्रोल करने के तरीके | Birth Control Methods in Hindi

वजाइनल रिंग – Vaginal Ring

योनि के छल्ले (vaginal rings), एक छोटी लचीली रिंग होती है, जिसे योनि में डाला जाता है। यह गर्भाशय ग्रीवा पर टिक जाती है। यह वजाइनल रिंग एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टिन हार्मोन रिलीज करके तीन सप्ताह तक ओव्यूलेशन को रोकती है।

बैरियर तरीके – Barrier methods

इस बैरियर मेथड का इस्तेमाल तब-तब करना होता है, जब-जब सहवास होता है। इसमें से एक तरीका कंडोम है। पुरुषों और स्त्रियों दोनों द्वारा इस्तेमाल किया जाने वाला कंडोम, बैरियर बर्थ कंट्रोल मेथड कहलाता है। इसके अलावा,  इन तरीकों को भी बैरियर मेथड में शामिल किया जाता है – 

  • स्पंज

गर्भनिरोधक स्पंज में शुक्राणुनाशक होता है, इसलिए इसे योनि में रखा जाता है जहां यह गर्भाशय ग्रीवा के ऊपर फिट बैठता है। स्पंज 24 घंटे तक काम करता है। इसे सहवास के बाद कम-से-कम 6 घंटे के लिए योनि में छोड़ दिया जाना चाहिए। 

  • डायफ्राम

शुक्राणु को अवरुद्ध करने के लिए गर्भाशय ग्रीवा को ढकने के लिए योनि के अंदर इसे रखा जाता है। डायाफ्राम एक उथले कप के आकार का होता है।

  • सर्वाइकल कैप

सर्वाइकल कैप एक थिम्बल के आकार का कप होता है। सहवास से पहले शुक्राणु को अवरुद्ध करने या मारने के लिए इसे अंदर डाला जाता है। 

डायाफ्राम और सर्वाइकल कैप विभिन्न आकारों में आते हैं, इसलिए उचित फिटिंग के लिए डॉक्टर से मिलें। इसकी विफलता दर 17.1 प्रतिशत है।

इस लेख में हमने विस्तार से सभी बर्थ कंट्रोल मेथड के बारे में बताया है। अगर आप अनचाही प्रेगनेंसी से बचना चाहते हैं, तो डॉक्टर से संपर्क करके इनमें से किसी भी एक मेथड को अपना सकते हैं।

चित्र स्रोत – unsplash

संबंधित लेख:
इमरजेंसी कॉन्ट्रासेप्शन
गर्भपात क्या है?
प्रसव के बाद प्रेगनेंसी रोकने के तरीके
सेक्सुअल हाइजीन क्यों है जरूरी?

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop