• Home  /  
  • Learn  /  
  • प्रेग्नेंसी में शरीर से बदबू आना : कारण और आयुर्वेदिक इलाज
प्रेग्नेंसी में शरीर से बदबू आना : कारण और आयुर्वेदिक इलाज

प्रेग्नेंसी में शरीर से बदबू आना : कारण और आयुर्वेदिक इलाज

21 Jun 2022 | 1 min Read

Vinita Pangeni

Author | 554 Articles

गर्भावस्था में बहुत-सी अलग चीजों से महिलाओं को गुजरना पड़ता है। भले ही कभी कब्ज हुआ हो या नहीं, गर्भावस्था में इसका अनुभव हो जाता है। वक्त-बेवक्त डकार आना और गैस पर नियंत्रण न रहना भी आम है। इसी तरह से प्रेग्नेंसी में शरीर से बदबू आना भी है। इस वक्त सामान्य दिनों के मुकाबले आपकी बॉडी ऑर्डर बदल जाती है।

कितना सामान्य है गर्भावस्था में शरीर से बदबू आना और इसके कारण क्या है, यह हम इस लेख में बताएंगे। साथ ही शरीर की बदबू को रोकने का आयुर्वेदिक इलाज और घरेलू उपाय पर भी चर्चा करेंगे। चलिए, लेख में आगे बढ़ते हुए इन सबके बारे में जानते हैं।

क्या प्रेग्नेंसी में शरीर से बदबू आना आम है? 

गर्भावस्‍था में शरीर से बदबू आना आम हो सकता है। रिसर्च पेपर के अनुसार, इस दौरान महिलाओं के सूंघने की क्षमता बढ़ जाती है। ऐसे में शरीर से पसीने की गंध उन्हें तेज लगने लगती है। साथ ही इस दौरान गर्भवती महिला के शरीर का तापमान बढ़ जाता है, जिससे पसीना भी ज्यादा आता है। इस बढ़ते पसीने के चलते भी शरीर से ज्यादा बदबू आना तेज हो जाता है।

गर्भावस्था में रात में पसीना आना और ब्लड सर्कुलेशन का 50 प्रतिशत से ज्यादा बढ़ जाना, यह सब पसीने की बदबू तेज होने की वजह बन जाते हैं। रात में पसीना आने का कारण गर्भावस्था के दौरान थायराइड हार्मोन में हो रहा बदलाव होता है।

कम्यूनिटी एक्सपर्ट, पूजा मराठे बताती हैं कि गर्भावस्था के दौरान शरीर से अधिक गंध आ सकती है। यह शरीर में होने वाले सभी अद्भुत परिवर्तनों का एक सामान्य दुष्प्रभाव है। इस दौरान आपकी पसीने की ग्रंथियां तेज गति में होती हैं। इस समय एस्ट्राडियोल नामक हार्मोन का उत्पादन बढ़ता है, जो अंडरआर्म से आने वाली गंध का कारण है। अच्छी खबर यह है इसे सिर्फ आप ही नोटिस कर पाती हैं।

आगे बढ़ते हुए जानते हैं कि गर्भावस्था में शरीर से बदबू आना शुरू होने के पीछे क्या कारण हो सकते हैं। 

प्रेग्नेंसी में शरीर से बदबू आने के कारण (Causes Of Body Odour During Pregnancy)

गर्भावस्था में बढ़ने वाले एस्ट्राडियोल हार्मोन और प्रोजेस्टेरोन हार्मोन के चलते शरीर की दुर्गंध तेज हो सकती है।

  • प्रेग्नेंसी में इस दौरान पसीने से संबंधित ग्रंथि अधिक सक्रिय रहती है। इसके चलते हल्की गतिविधि करने पर भी पसीना ज्यादा आता है। पसीने के कारण शरीर में पैदा होने वाले बैक्टीरिया शरीर की बदबू की वजह बन सकते हैं।
  • रिसर्च बताते हैं कि गर्भावस्था में योनि का पीएस का स्तर प्रभावित होता है। ऐसे में शरीर से गंध आ सकती है। 
  • गर्भावस्था में महिला की योनि से होने वाला स्राव भी शरीर से दुर्गंध आने का कारण बन सकता है। पीएस स्तर में बदलाव के अलावा अगर गर्भावस्था में योनि से स्राव यानी वजायनल डिस्चार्ज हो रहा हो, तो उससे भी गंध आ सकती है। 
गर्भावस्था में शरीर की गंध में वृद्धि होती है। यह गंध महिलाओं को ही पता चल पाती है। चित्र स्रोत- पिक्सेल्स

गर्भावस्था में शरीर की गंध में वृद्धि कब से होती है?

पूरी गर्भावस्था के दौरान शरीर से सामान्य से अधिक दुर्गंध आती है। लेकिन, शरीर की गंध कब तेज होती है, यह उसके कारण पर निर्भर करता है। उदाहरण के तौर पर अगर ब्लड प्रेशर की वजह से शरीर की दुर्गंध बढ़ती है, तो ऐसा दूसरी या तीसरी तिमाही में हो सकता है। सामान्य तौर पर कहें, तो कंसीव करने के बाद से शरीर में होने वाले बदलावों के कारण गर्भवती महिला के शरीर की गंध तेज हो सकती है।  

गर्भावस्‍था में शरीर की बदबू को दूर करने का आयुर्वेदिक इलाज

गर्भावस्था में शरीर से आने वाली दुर्गंध से प्रेग्नेंसी को किसी तरह का नुकसान नहीं होता है। इसलिए घबराना नहीं चाहिए। हां, खुद को आसपास के लोगों को दुर्गंध से हो रही दिक्कत को दूर करने के लिए आप आयुर्वेदिक इलाज का विकल्प देख सकती हैं। प्रेग्नेंसी में शरीर से आने वाली दुर्गंध का आयुर्वेदिक इलाज करने से माँ और बच्चे को किसी तरह का नुकसान भी नहीं होगा।

उपचार के रूप में आयुर्वेदिक डॉक्टर गर्भवती महिला को प्राकृतिक सामग्रियों से बने साबुन व बॉडी वॉश नहाने के लिए दे सकते हैं।  साथ ही आयुर्वेदिक चिकित्सक नहाने के पानी में मिलाने के लिए कुछ औषधीय गुणों वाला घोल दे सकते हैं। इससे शरीर की बदबू कुछ कम हो सकती है।

गर्भावस्था में शरीर की दुर्गंध दूर करने के घरेलू उपाय

  • प्रेग्नेंसी में नहाते समय अच्छे प्राकृतिक सुगंध वाले साबुन व बॉडी वॉश से शरीर की दुर्गंध को कुछ कम किया जा सकता है।
  • नहाने के पानी में नींबू का रस, या किसी एसेंशियल ऑयल की एक-दो बूंदें डाल सकती हैं।
  • पसीना ज्यादा आने के कारण बालों व स्कैल्प से भी दुर्गंध आ सकती है। इसलिए समय-समय पर बालों को शैम्पू करें।
  • इसके साथ ही बालों में सीरम लगाएं या लीव ऑन कंडीशनर। इससे बालों से खुशबू आएगी।
  • शरीर से आने वाली बदबू को कम करने के लिए गुप्तांग और कांख के बालों को ट्रिम करें। ऐसा करने से यहां बैक्टीरिया जमा नहीं होंगे और बदबू आने की दिक्कत कुछ कम होगी।
  • आप कांख में टैल्क फ्री पाउडर भी लगा सकती हैं। इससे कांख से खुशबू आएगी और पसीना आना भी कुछ कम होगा।
  • आप सिंथेटिक कपड़े पहनने से बचें। आप हमेशा कॉटन के कपड़े पहनें। ये पसीने को सोखते भी हैं और इनसे जल्दी तेज गंध भी नहीं आती है जैसा पौलिस्टर व अन्य सिंथेटिक कपड़ों से आती है।
  • डिओडोरेंट्स और एंटीपर्सपिरेंट्स का उपयोग करें।

गर्भावस्था का समय हो या सामान्य वक्त हो, शरीर से हल्की पसीने की गंध आना सामान्य है। हां, अगर आपके शरीर से आने वाली गंध का आपको खुद पता नहीं चल रहा है या फिर गंध असहनीय है, तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें। अगर सामान्य दिनों में आपके पसीना अधिक आने की शिकायत नहीं थी और एकदम से बहुत पसीना आने लगा है, तो भी विशेषज्ञ से संपर्क अवश्य करें।

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

2

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop