गर्भावस्‍था सप्ताह 30 : चिन्ह और लक्षण - 30 Pregnancy Week Pregnancy : Signs And Symptoms

cover-image
गर्भावस्‍था सप्ताह 30 : चिन्ह और लक्षण - 30 Pregnancy Week Pregnancy : Signs And Symptoms

गर्भावस्था के 30वें सप्ताह में आपका शिशु तेजी से बढ़ रहा होता है, जिसके कारण आपका पेट अब और भी अधिक तना हुआ महसूस हो सकता है। गर्भावस्था के इस हिस्से में बच्चे का मस्तिष्क तेजी से विकसित होता है। इस अवधि में पिछले हफ्तों की तुलना में शिशु का वजन भी थोड़ा बढ़ जाता है क्योंकि वे जन्म लेने के करीब होते हैं। इस दौरान आप क्या महसूस करते हैं और भावी शिशु के लिए किन तैयारियों की जरूरत होती है यह बताने के हम ये लेख लेकर आए हैं। अपनी गर्भावस्था से जुड़ी महत्वपूर्ण जानकारियाँ हासिल करने के लिए पढ़ें यह 30 वीक प्रेगनेंसी इन हिंदी साइन और सिम्पटम्स।

30 वीक प्रेगनेंसी : बच्चे का आकार क्या होगा ?

तीस सप्ताह की गर्भवती सात महीने से अधिक समय की गर्भवती होती है। 30 सप्ताह का मतलब है कि बस 10 हफ्तों बाद आप अपने बच्चे को जन्म देंगी यानी कि प्रसव का समय नजदीक आ गया है। 30 सप्ताह के गर्भ में, शिशु की लम्बाई 15.7 इंच और वजन 2.9 पाउंड (1.30 KG) के आस-पास होता है। गर्भस्थ शिशु 30 हफ्तों के बाद हर हफ्ते लगभग आधा पाउंड और आधा इंच बढ़ता है, यही वजह है कि आपका 30 सप्ताह में पेट काफी टाईट और तना हुआ महसूस होता है।

30 वीक प्रेगनेंसी : सामान्य शारीरिक परिवर्तन

गर्भावस्था के 30वें हफ्ते में आपको कई शारिरिक परिवर्तनों का सामना करना पड़ सकता है। बढ़ते हुए पेट के कारण उठने बैठने में परेशानी होना तो स्वाभाविक होता ही है साथ ही हार्मोनल बदलाव के कारण आपके मूड में भी परिवर्तन आ सकते हैं। आइए जानते हैं गर्भावस्था के तीसवें हफ्ते में आपको क्या-क्या महसूस हो सकता है -

  • सीने में जलन - यदि आप जलन महसूस कर रहे हैं, तो ध्यान दें कि कौन से खाद्य पदार्थ इसके कारण हैं। अधिक चिकना, भारी, मसालेदार या एसिडिक फ़ूड इसका कारण हो सकता है। इसके सेवन से बचना चाहिए, ख़ासतौर पर रात के समय हल्का भोजन लें।
  • नींद न आना - इस अवस्था में आपकी नींद प्रभावित हो सकती है क्योंकि आप सहज महसूस नहीं करते हैं, बहुत अधिक चिंता के कारण थकान और अनिद्रा की शिकायत 30 वीक प्रेगेनेंसी में आम बात है।
  • सूजन - गर्भावस्था के तीसवें हफ्ते में हाथों पैरों पर सूजन बढ़ सकती है। अधिक देर खड़े रहने या बैठे रहने से यह समस्या और बढ़ जाती है। थोड़ी बहुत सूजन आना सामान्य है, लेकिन ज्यादा सूजन किसी बड़ी समस्या का संकेत हो सकती है, इसलिए उस पर नज़र रखें।
  • सामान्य बेचैनी - आपके बढ़े हुए पेट के कारण आपकी पीठ में दर्द हो सकता है। साथ ही आपके कूल्हों और पैरों में दर्द के कारण भी कभी-कभी बेचैनी महसूस हो सकती है।
  • सांस लेने में कठिनाई - गर्भावस्था के दौरान 30 सप्ताह में शिशु आपकी पसलियों के करीब होता है जैसे-जैसे प्रेगनेंसी आगे बढ़ती है शिशु नीचे की ओर आने लगता है। जब तक शिशु ऊपर रहता है आपको साँस लेने में हल्की से परेशानी महसूस हो सकती है जो धीरे-धीरे अपने आप 34वें सप्ताह तक सामान्य हो जाती है।

गर्भावस्था के 30वें सप्ताह में लक्षण - Symptoms In 30th Week Of Pregnancy

गर्भावस्था के 30वें सप्ताह (30 वीक प्रेगनेंसी) में गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण फिर से वापस आ सकते हैं। आप शायद फिर से थका हुआ और मूडी महसूस कर सकती हैं, और आपको हर समय फिर से पेशाब करने की ज़रूरत महसूस हो सकती है। इस दौरान आपको अपने शारीरिक और मानसिक स्वास्थ्य की देखभाल करने के तरीके खोजने चाहिए।

गर्भावस्था के 30वें सप्ताह में पेट - Belly In 30th Week Of Pregnancy

गर्भावस्था के इस दौर में आपको पेट में तनाव और कसाव महसूस हो सकता है क्योंकि इस महीने में बेबी का वजन तेजी से बढ़ रहा होता है। बच्चे के साथ-साथ माँ का वजन भी बढ़ता है लेकिन अधिक वजन न बढ़े इसका ध्यान रखना भी जरूरी है। बहुत अधिक वजन बढ़ने से न केवल आपकी गर्भावस्था में अधिक जोखिम होता है, बल्कि यह आपके पीठ दर्द को भी बढ़ा सकता है।

गर्भावस्था के 30वें सप्ताह का अल्ट्रासाउंड - Ultrasound Of 30th Week Of Pregnancy In Hindi

30वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड करवाना आवश्यक नहीं है, लेकिन कुछ डॉक्टर बच्चे की वृद्धि और विकास को देखने के लिए स्कैन के आदेश दे सकते हैं। इस दौरान आपके शिशु के चेहरे की रेखाएं अधिक विकसित होती हैं। अल्ट्रासाउंड पर आप यह भी देख सकती हैं कि आपके बच्चे की आंखें खुली हैं या नहीं।

अल्ट्रासाउंड के अलावा, इस दौरान आपका नॉन-स्ट्रेस टेस्ट भी किया जा सकता है। इस टेस्ट में बच्चे की हृदय गति को मापने के लिए आपके पेट पर एक बेल्ट लगाई जाएगी और दूसरी बेल्ट कांट्रेक्शन को मापेगी। नॉन-स्ट्रेस टेस्ट यह बता सकता है कि बच्चे को आवश्यक ऑक्सीजन मिल रही है या नहीं है।

क्या खाना चाहिए? - What Should I Eat?

गर्भावस्था के तीसवें हफ्ते में आपको सीने में जलन और कब्ज जैसी परेशानी महसूस हो सकती है जिससे भूख पर असर पड़ सकता है। सभी कारणों के बावजूद अपने और अपने बच्चे के स्वास्थ्य के लिए आपको संतुलित भोजन करना चाहिए। अपने भोजन में आपको उन्हीं तत्वों को शामिल करने चाहिए जिनकी गर्भावस्था के दौरान आवश्यकता होती है जैसे - प्रोटीन, विटामिन और मिनरल्स ,हेल्दी फैट्स, काम्प्लेक्स कार्बोहाइड्रेट्स, फाइबर और तरल पदार्थ। इनके लिए भोजन में खूब लिक्विड, हरी सब्जियां, नट्स एंड ड्राई फ्रूट्स और डेयरी प्रोडक्ट्स को शामिल करें।

सुझाव और देखभाल - Tips For 30th Week Of Pregnancy In Hindi

जो सुझाव गर्भवती महिलाओं को गर्भावस्था में आमतौर पर दिए जाते हैं उन्हीं का पालन प्रेगनेंसी के 30वें हफ्ते में भी करना चाहिए जैसे -

  • अत्यधिक वजन ना उठाएं और अधिक मेहनत के काम न करें।
  • ज्यादा चाय, कॉफ़ी और सोडायुक्त पेय का सेवन ने करें।
  • आठ घंटे की भरपूर नींद लें।
  • डॉक्टर द्वारा दिए गए आयरन और कैल्शियम का सेवन नियमित रूप से करें।
  • थोड़ा हल्का-फुल्का व्यायाम जैसे वाकिंग वगैरह चालू रखें।
  • प्रचुर मात्रा में तरल पदार्थों का सेवन करें।
  • स्मोकिंग और एल्कोहल के सेवन से परहेज़ करें।

आपके लिए आवश्यक ख़रीदारी - Your Essential Purchases In 30th Week Of Pregnancy In Hindi

गर्भावस्था का तीसवां सप्ताह डिलीवरी के करीब होता है इसलिए कुछ चीजों की खरीदारी इस समय की जा सकती हैं। यह आपको और आपके बच्चे को सुरक्षित, स्वस्थ और खुश रखने में मदद कर सकती हैं। बढ़े हुए पेट को सहारा देने के लिए आप इस दौरान अपने लिए एक प्रेगनेंसी पिलो खरीद सकती हैं, यह नींद के दौरान आपको आरामदायक पोश्चर देता है। आप अपने लिए कुछ ढीले और बड़े वस्त्र ले सकती हैं। घर में आने वाले बच्चे के स्वागत के लिए नई सजावट का सामान भी आपको नयेपन और ख़ुशी का अहसास देता है।

तो यह थी जानकारी गर्भावस्था के 30वें हफ्ते के बारे में। उम्मीद है कि आपको अपने आने वाले बच्चे के विकास और उसके लिए जरूरी रखरखाव के बारे में पढ़कर अच्छा महसूस हुआ होगा। गर्भावस्था थोड़ी नाजुक अवस्था होती है ऐसे में कम से कम चिंता करें और हेल्थकेयर प्रोवाइडर के सम्पर्क में रहें ताकि किसी भी प्रकार की इमरजेंसी हो तो तुरंत सही कदम उठाए जा सकें।

Related Articles:

प्रेगनेंसी में क्या समस्याएं हो सकती हैं ? - प्रेगनेंसी एक नाजुक दौर होता है, उस दौरान कौन सी समस्या आम है और कौन सी समस्या के लिए ख़ास देखभाल चाहिए, जानिए इस लेख में।

13 वीक प्रेगनेंसी की जानकारी - जानिए 13 वीक की प्रेगनेंसी में आपके शिशु में क्या बदलाव आते हैं ?

ईडीडी कैलकुलेटर का प्रयोग - ईस्टमेटेड डेट ऑफ़ डिलीवरी को जानने में यह टूल्स काम आ सकता है, इसलिए इसके बारे में सभी गर्भवती महिलाओं को जानकारी होनी चाहिए।

Banner Image Source: freepik

#garbhavastha #hindibabychakra #garbhavastha #hindibabychakra
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!