किस उम्र में बच्चे सपने देखना शुरू कर देते हैं?

cover-image
किस उम्र में बच्चे सपने देखना शुरू कर देते हैं?

नींद के दौरान किसी व्यक्ति के दिमाग में आने वाले वाले विचारों, छवियों और संवेदनाओं की एक पूरी श्रृंखला को सपनों के रूप में जाना जाता है। वयस्क लोग अक्सर नींद के दौरान सपने देखते हैं, कभी अच्छे तो कभी बुरे। सपनों से जुड़ी कई जिज्ञासाएं हमारे मन में होती हैं जिनमें से एक है की क्या बच्चे भी सपने देखते हैं (Do Infants Dream) ? अगर इसका जवाब हाँ है तो आखिर नवजात बच्चे के सपने (Newborn Dreams) किस तरह के होते हैं? इन सभी जिज्ञासाओं को शांत करने के लिए बेबीचक्रा लाया है यह ख़ास जानकारी-

आइए, सबसे पहले जानते हैं कि क्या छोटे बच्चे सपने देखते हैं?

क्या छोटे बच्चे सपने देखते हैं? - Do infants dream

नींद के पांच चरण हैं। चार चरण नॉन-आरईएम नींद हैं और एक को आरईएम नींद (रैपिड आई मूवमेंट) कहा जाता है। हम, वयस्क, अपने नींद के समय का एक चौथाई REM नींद में बिताते हैं, जो नींद का वह चरण भी है जिसमें हम सपने देखते हैं। शिशु अपनी नींद का लगभग 50 से 80 प्रतिशत REM चरण में बिताते हैं। यह एक संभावना है कि शिशु इस चरण के दौरान सपने देखते हैं, लेकिन कुछ भी कहना बहुत मुश्किल है क्योंकि आप एक नवजात बच्चे से अपने सपने (Newborn Dreams) को बयान करने के लिए नहीं कह सकते हैं।

REM नींद एक हल्की नींद होती है और यह NON - REM नींद की तुलना में अधिक सक्रिय नींद है। हम REM नींद के दौरान आसानी से जाग जाते हैं। शिशु इतनी बार क्यों जागते हैं और वे छोटी नींद क्यों लेते हैं, क्योंकि वे ज्यादातर हल्की नींद में होते हैं। इसी आधार पर कहा जा सकता है कि छोटे बच्चों का सपने देखना संभव है।

छोटे बच्चे क्या सपने देखते हैं? - What Do Little Babies Dream Of ?

यह कहना बहुत मुश्किल है कि छोटे शिशु किस तरह के सपने देखते हैं, वो आपको बता भी नहीं सकते हैं। विशेषज्ञों का अनुमान है कि बच्चे अपने आस-पास या गर्भ में जिन अनुभवों से गुजरते हैं वो उन्हें ही सपनों में देखते हैं। जन्म के बाद बाहरी दुनिया में शिशु रोजाना कुछ नया सुनता है, देखता है और महसूस करता है इसलिए ये सभी अनुभव उसकी स्मृति में रोमांचक रूप से अंकित होते जाते हैं और सपनों (Newborn Dreams) में वो इन्हें पुनः महसूस कर सकता है।

आपके बेबी के सपने देखने के संभावित संकेत - Possible Signs That Your Baby Is Dreaming

यह बात सच है कि हम ये नहीं जान सकते कि बच्चे कब और कैसे सपने देख रहें हैं लेकिन उनके हाव-भाव देखकर हम इस बात का अंदाजा लगा सकते हैं। अगर वो मुस्कुराते हुए उठता है या सोते हुए मुस्कुरा रहा है तो यह संभव है कि वो एक सुंदर सपना देख रहा हो। अगर सोते हुए वो अपनी बंद आँखों को बार-बार मींच रहा है तो यह भी शिशु द्वारा सपने देखने का एक संकेत हो सकता है क्योंकि जैसे-जैसे शिशु के सपने के दृश्य बदलते हैं, वैसे -वैसे उसकी आँखों में हलचल महसूस होती है।

क्या छोटे बच्चों को बुरे सपने आते हैं? - Do Babies Have Nightmares?

एक बुरे सपने को एक भयावह या अप्रिय सपने के रूप में परिभाषित किया जा सकता है। वयस्कों को शिशुओं की तुलना में अक्सर बुरे सपने आते हैं। लगभग एक-चौथाई बच्चों में हर सप्ताह बुरे सपने आते हैं। दुःस्वप्न तब शुरू होते हैं जब बच्चा लगभग 2 साल का होता है, एक ऐसी उम्र जहां वे डर की अवधारणा को थोड़ा समझना शुरू करते हैं। यह तीन और छह साल की उम्र के बीच में है। दुःस्वप्न आमतौर पर नींद चक्र के दौरान सुबह 4 से 6 बजे के बीच होते हैं।

बुरे सपने के लिए स्पष्टीकरण ज्ञात नहीं है, हालांकि, यह सामान्य तनाव के कारण माना जाता है। उदाहरण के लिए, जिन बच्चों ने दर्दनाक घटना को भूलने के लिए कठिन बना दिया है, वे अगले छह महीनों तक लगातार बुरे सपने देखते हैं।

यदि आपका बच्चा बुरे सपने का सामना कर रहा है, तो कृपया उसे / उसकी उपेक्षा न करें। अपने बच्चे के लिए वहाँ रहना आवश्यक है। उन्हें आश्वस्त करें कि उन्हें डरने की ज़रूरत नहीं है और आप आसपास हैं।


क्या बिना सपनों की नींद बेबी के विकास में मदद करती है? - Does Sleep Without Dreams Help Baby's Development?

स्लीप एक्सपर्ट्स कहते हैं जब बच्चे हल्की नींद में सपने नहीं देखते तो इससे नवजात शिशु को मानसिक विकास में मदद मिलती है। नींद के दौरान मस्तिष्क को अगर आराम मिलता है तो शिशु भाषा, व्यवहार और वस्तुओं को जानने समझने के गुणों का विकास कर लेता है।

इस बात से इनकार नहीं किया जा सकता कि नवजात शिशु के विकास के लिए अच्छी और गहरी नींद बहुत जरूरी है, क्योंकि जब नन्हा शिशु सोता है, तो उसके दिमाग का विकास भलीभांति होता है।

तो आपने जाना कि बच्चे नींद में अपने सपनों की दुनिया कैसे घूमते हैं। इसीलिए दादी-नानी माँ को बच्चे से अलग सोने के लिए मना करती है क्योंकि वो अक्सर चौंक सकते हैं या सपने से डर सकते हैं। ऐसे में उन्हें माँ-पिता की जरूरत होती है। बच्चों को अच्छे या बुरे सपने दिखाई दें, आपको उनके साथ बने रहना चाहिए। इससे बच्चों में सुरक्षा की भावना बढ़ती है।

Related Articles:

  • माँ को बच्चे के साथ ही क्यों सोना चाहिए ? - यह सिर्फ भावनात्मक मामला नहीं है बल्कि बच्चे और माँ का साथ में सोना शारीरिक और बौद्धिक दृष्टिकोण से भी महत्वपूर्ण हैं, इसके सभी कारण इस आर्टिकल में दिए गए है
#shishukidekhbhal
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!