• Home  /  
  • Learn  /  
  • बच्चों में हैंडवॉश की आदत सिखाते समय न करें ये गलतियां
बच्चों में हैंडवॉश की आदत सिखाते समय न करें ये गलतियां

बच्चों में हैंडवॉश की आदत सिखाते समय न करें ये गलतियां

20 May 2022 | 1 min Read

Ankita Mishra

Author | 396 Articles

पहले हमनें अपने पेरेंट्स, दादा-दादी व नाना-नानी से हाथ धोने का तरीका सिखा। अभी वही तरीका हम अपने बच्चों को भी सिखा रहे हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि बच्चों में हैंडवॉश की आदत सिखाते समय हम अक्सर कुछ गलतियाँ करते हैं! बच्चों में हैंडवॉश की आदत की गलतियां वैसे तो गंभीर नहीं मानी जा सकती हैं, लेकिन अगर लंबे समय तक बच्चों के हैंडवॉश गलत तरीके से होंगे, तो यह स्वास्थ्य के लिए मुसीबत जरूर बन सकता है। 

बेबीचक्रा के इस लेख में हम बच्चों के लिए हैंडवॉश से जुड़ी कुछ सबसे सामान्य गलतियों के बारे में बता रहे हैं। साथ ही, बच्चों के हैंडवॉश के लिए फोमिंग हैंडवॉश का सही तरीका भी बताएंगे। 

बच्चों में हैंडवॉश की आदत सिखाते समय की जानें वाली सबसे सामान्य गलतियां

बच्चों में हैंडवॉश की आदत
बच्चों में हैंडवॉश की आदत / चित्र स्रोतः गूगल

1. हाथों को बहुत ज्यादा धोना

बच्चों में हैंडवॉश की आदत से जुड़ी सबसे पहली गलती है, बार-बार और बहुत बार हाथों को धोना। यह तो अच्छी बात है कि एक समय के अंतराल पर बच्चों के हैंडवॉश कराने चाहिए, पर बार-बार बच्चों के हैंडवॉश करने या बहुत देर तक बच्चों के हैंडवॉश करने से उनके हाथों की त्वचा ड्राई हो सकती है। 

2. सिर्फ टॉयलेट से आने पर ही बच्चों के हैंडवॉश करना

बच्चों में हैंडवॉश की आदत से जुड़ी दूसरी गलती है, सिर्फ टॉयलेट या शौच से आने के बाद ही हाथ धोने की आदत। ध्यान रखें कि घर कितना भी साफ-सुधरा क्यों न हो, बैक्टीरिया न सिर्फ गंदगी के जरिए घर में फैल सकते हैं, बल्कि पानी, हवा और घर में मौजूद विभिन्न सामाग्रियों के जरिए भी फैल सकते हैं। 

इसलिए टॉयलेट का इस्तेमाल करने के बाद, घर की साफ-सफाई करने के बाद, कहीं बाहर से आने के बाद और खिलौनों व जानवरों के साथ खेलने के बाद भी बच्चों के हैंडवॉश पर जोर देना चाहिए।

3. हार्ड साबुन या केमिकल युक्त शॉप से हैंडवॉश करना

साबुन व हैंडवॉश बनाने के लिए विभिन्न तरह के केमिकल का इस्तेमाल किया जाता है। ये केमिकल हैंडवॉश में खुशबू, झाग, रंग व हाथों की चिकनाई दूर करने के लिए खासतौर पर मिलाए जा सकते हैं। इसलिए बच्चों के लिए ऑर्गेनिक हैंड वॉश का ही चुनाव करें। 

बच्चों के लिए ऑर्गेनिक हैंड वॉश के तौर पर बेबीचक्रा का नेचुरल फोममिंग हैंडवॉश (BabyChakra Natural Foam Handwash For Kids) का चुनाव करना एक बेहतर विकल्प हो सकता है। 

बेबीचक्रा का दावा है कि बच्चों के बेबीचक्रा फोमिंग हैंडवॉश (BabyChakra Natural Foam Handwash For Kids) को सर्टिफाइड ऑर्गेनिक इंग्रीडिएंट्स के मिश्रण पर तैयार किया गया है। बेबीचक्रा फोमिंग हैंडवॉश को मार्केट में लाने से पहले इसे डर्मेटोलॉजिस्ट द्वारा टेस्ट भी किया गया है। यह बच्चों के हाथों की बेहतर सफाई करके उन्हें 99.9% कीटाणुओं से सुरक्षा प्रदान कर सकता है। 

सिर्फ इतना ही नहीं, बेबीचक्रा फोमिंग हैंडवॉश (BabyChakra Natural Foam Handwash for Kids) में सल्फेट, ट्रिक्लोसन, बीएचटी और पैराबीन जैसे किसी भी केमकिल का इस्तेमाल नहीं किया गया है।

4. हैंडवॉश के तुरंत बाद चीजों को छूना

सभी पेरेंट्स अपनी जानकारी के अनुसार बच्चों में हैंडवॉश की आदत को अच्छी तरह से विकसित करना चाहते हैं। पर बच्चों की फुर्ती में वे कई बार कुछ गतलियां भी कर देते हैं। जैसे एक गलती है बच्चे का हैंडवॉश करने के तुरंत बाद किसी चीज, खिलौने या सतह को छूना। ऐसा करने से उस वस्तु के कीटाणु बच्चों के हाथों तक पहुंच सकते हैं और उसे बीमार भी कर सकते हैं।  

इसलिए, ध्यान रखें कि हैंडवॉश के तुरंत बाद साफ तौलिए से बच्चे के हाथों का पानी सूखा करें और तभी उसे किसी वस्तु या खिलौने के छूने दें।  

बच्चों में हैंडवॉश की आदत को सुधारने के लिए पेरेंट्स को ही इस पर जोर देना चाहिए। बच्चों को हर काम में जल्दी रहती है, इसलिए पेरेंट्स को समय-समय पर बच्चों के हैंडवॉश करने की आदत का ध्यान रखना चाहिए। साथ ही, अपने बच्चे के लिए केमिकल या हार्ड हैंशवॉश की जगह पर ऑर्गेनिक हैंड वॉश का चुनाव करना चाहिए।

home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop