• Home  /  
  • Learn  /  
  • बच्चों को डेंगू-मलेरिया से बचाने के लिए ऐसे करें तैयारी, पास भी नहीं फटकेगा मच्छर
बच्चों को डेंगू-मलेरिया से बचाने के लिए ऐसे करें तैयारी, पास भी नहीं फटकेगा मच्छर

बच्चों को डेंगू-मलेरिया से बचाने के लिए ऐसे करें तैयारी, पास भी नहीं फटकेगा मच्छर

11 Jul 2022 | 1 min Read

Mona Narang

Author | 173 Articles

बारिश का मौसम आते ही पैरेंट्स को डेंगू और मलेरिया की टेंशन सताने लगती है। ऐसा होना लाजमी भी है। क्योंकि बच्चों की इम्यूनिटी इतनी कमजोर होती है कि वो आसानी से इन बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। परेशानी की बात यह है कि इनके लक्षण सामान्य वायरल फीवर की तरह ही होते हैं, जिस वजह से कई बार इसके इलाज में मुश्किल हो सकती है। अगर समय रहते इसका पता न लगे, तो ये बीमारियां जानलेवा भी साबित हो सकती हैं। इसलिए, इस लेख में हम बच्चों में डेंगू और मलेरिया से बचाव के उपाय (How to prevent dengue malaria in Hindi) लेकर हाजिर हुए हैं। 

डेंगू और मलेरिया जैसी बीमारियां मच्छरों के काटने से होती हैं। ऐसे में बच्चों को मच्छरों से बचाना जरूरी होता है। वैसे तो बाजार में मच्छरों से बचाव के लिए कई सारे प्रोडक्ट्स मौजूद हैं, लेकिन सभी का इस्तेमाल बच्चों के लिए उपयुक्त नहीं होता है। इस लेख में हम विस्तार से बच्चों में डेंगू और मलेरिया से बचाव के लिए जरूरी प्रोडक्ट्स के बारे में जानेंगे। 

बच्चों में डेंगू और मलेरिया से बचाव के लिए जरूरी प्रोडक्ट्स (How to Prevent Dengue-Malaria in Kids in Hindi)

बच्चों को डेंगू और मलेरिया जैसी खतरनाक बीमारियों से बचाव के लिए निम्नलिखित चीजों का इस्तेमाल करना लाभकारी हो सकता है। चलिए क्या हैं वो प्रोडक्ट्स, इनके बारे में विस्तार से जानेंगे।

बच्चों में डेंगू और मलेरिया से बचाव
बच्चों में डेंगू और मलेरिया से बचाव// चित्र स्रोत: फ्रीपिक

1. मॉस्किटो रिपेलेंट स्प्रे (Mosquito Repellent Body Spray)

वैसे तो मार्केट में मच्छरों को भगाने वाले कई सारे मॉस्किटो रिपेलेंट स्प्रे पहले से मौजूद हैं। लेकिन, बच्चों के लिए इनका इस्तेमाल सुरक्षित नहीं माना जाता है। इनमें कुछ ऐसे केमिकल होते हैं जो शिशु की नाजुक त्वचा और स्वास्थ्य पर नकारात्मक प्रभाव दिखा सकते हैं।

आपकी परेशानी को दूर करते हुए बता दें कि बाजार में शिशुओं के लिए खास नैचुरल बेबी मॉस्किटो रिपेलेंट स्प्रे आ गए हैं। इन्हें शिशु के स्वास्थ्य को देखते हुए प्राकृतिक सामग्रियों  से तैयार किया गया है। बच्चों में डेंगू और मलेरिया से बचाव के लिए जरूरी सामान की लिस्ट में पेरेंट्स एक नाम मॉस्किटो रिपेलेंट स्प्रे का शामिल करें।

बच्चों के लिए मॉस्किटो रिपेलेंट लेते समय पैरेंट्स उसमें मौजूद सामग्रियों पर एक नजर जरूर डालें। उसमें किसी तरह के टॉक्सिन्स, आर्टिफिशियल फ्रेगरेंस, केमिकल, पेस्टिसाइड्स, एल्कोहल, सिलिकॉन व मिनरल्स ऑयल नहीं होना चाहिए।

2. मॉस्किटो रिपेलेंट पैचेस (Mosquito Repellent Patches)

घरों में तो आप मच्छरों को आने से रोक सकते हैं, लेकिन बच्चों को घर के बाहर खेलने जाने से रोकना नामुमकिन होता है। ऐसे में बच्चों में डेंगू और मलेरिया से बचाव के लिए मॉस्किटो रिपेलेंट पैचेस का इस्तेमाल प्रभावी हो सकता है। इसके लिए पैरेंट्स को बस एक छोटा-सा काम करना होता है। बच्चे के बाहर खेलने जाने से पहले उनके कपड़ों के ऊपर मॉस्किटो रिपेलेंट पैचेस को चिपकाना होगा।

बच्चों में डेंगू और मलेरिया से बचाव के लिए इन बातों का भी रखें ध्यान

बच्चों में डेंगू और मलेरिया से बचाव
बच्चों के लिए मॉस्किटो रिपलेंट/ चित्र स्रोत: फ्रीपिक

बच्चा डेंगू या मलेरिया जैसी बीमारियों के चपेट में न आने पाए, इसके लिए उन्हें मच्छरों से बचाना जरूरी होता है। लेख में ऊपर आपने दो ऐसे प्रोडक्ट्स के बारे में जाना जो बच्चों को मच्छरों के आतंक से बचा सकते हैं। नीचे कुछ ऐसी टिप्स दे रहे हैं, जिनका बच्चों से मच्छरों को दूर रखने के लिए पैरेंट्स को ध्यान रखना चाहिए।

  • बच्चे  को हमेशा पूरे कपड़े पहनाएं। मच्छरों से बच्चों को सेफ रखने के लिए उन्हें कॉटन के ढके हुए कपड़े पहनाने की सलाह दी जाती है, जिससे बच्चे को असहज महसूस न हो।
  • मच्छर काटने से बच्चे की त्वचा पर चकत्ते या उभरे हुए दाने हो गए हैं तो आफ्टर बाइट रोल ऑन का इस्तेमाल कर सकते हैं। यह कुछ हद तक इन लक्षणों को कम कर सकता है।
  • बच्चे के बेड पर मच्छरदानी लगाएं। क्योंकि मच्छर रात के समय ज्यादा एक्टिव होते हैं। इसलिए उनके बेड पर मच्छरदानी कवर लगा होना चाहिए।
  • घर के आस-पास कहीं पानी इकट्ठा न होने दें व साफ-सफाई रखें। इस बात को आप अच्छे से जानते होंगे कि मच्छर गंदगी में पनपते हैं।
  • शाम होने से पहले घर के दरवाजों और खिड़कियों को बंद कर लें।
  • घर में कहीं भी गंदगी एकत्रित न होने दें।

मच्छरों को हल्के में लेना घातक परिणाम का कारण बन सकता है। इसके काटने से डेंगू और मलेरिया जैसी जानलेवा बीमारियां होने का जोखिम रहता है। इसलिए, बच्चों को मच्छरों से बचाने के लिए लेख में दिए हर बात को गंभीरता से फॉलो करें। बच्चे को मच्छर के काटने के बाद बुखार, कमजोरी, शरीर में कंपन आदि लक्षण दिखाई दें, तो बिना देरी करें डॉक्टर से परामर्श लें।

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop