• Home  /  
  • Learn  /  
  • गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज करने के लाभ
गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज करने के लाभ

गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज करने के लाभ

14 Jun 2022 | 1 min Read

Ankita Mishra

Author | 408 Articles

प्रेग्नेंसी में जितनी सतर्कता खान-पान को लेकर करनी चाहिए, उतना ही ध्यान फिजिकल फिटनेस पर भी देना जरूरी होता है। बेहतर फीजिकल फिटनेस श्रोणी मांसपेशियों को मजबूत बना सकते हैं, जिससे नॉर्मल डिलीवरी की संभावना बढ़ सकती है। इसी कड़ी में गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज को लाभकारी माना गया है। प्रेग्नेंसी में कीगल एक्सरसाइज करने के फायदे खासतौर पर श्रोणी यानि योनि की मांसपेशियों को मजबूती दे सकते हैं, जिससे गर्भावस्था के दौरान मूत्र असंयमितता को रोकने व नॉर्मल प्रसव की क्षमता बढ़ सकती है।  

इसी तरह प्रेग्नेंसी में कीगल एक्सरसाइज करना कई अन्य फायदों से जुड़ा हुआ है, जिसकी जानकारी इस लेख में दी गई है। पढ़ने के लिए स्क्रॉल करें और साथ ही गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज कैसे करते हैं, इसके बारे में भी पढ़ें।

कीगल एक्सरसाइज क्या है? (Kegel Exercise in Hindi)

कीगल एक्सरसाइज (Kegel Exercise) पेल्विक, गर्भाशय व मूत्राशय की मांसपेशियों को मजबूती देने वाली एक तरह की एक्सरसाइज है। अगर किसी महिला या पुरुष को पेशाब व मल त्याग पर नियंत्रण करने में कठिनाई होती है, तो वे खासतौर पर कीगल एक्सरसाइज कर सकते हैं। इससे उनके शरीर को मूत्र व मल असंयमितता पर नियंत्रण करने में मदद मिल सकती है।  

इसके अलावा, कीगल व्यायाम करने से मांसपेशियों को मिलने वाली मजबूती योनि को भी मजबूत बना सकती है, जिससे प्रसव से जुड़ी समस्याओं को कुछ हद तक कम किया जा सकता है। इतना ही नहीं, अगर गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज नियमित रूप से किया जाए, तो यह गर्भावस्था में बवासीर की समस्या को भी दूर कर सकता है।

क्या गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज करना सुरक्षित है?

गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज
गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज / चित्र स्रोतः फ्रीपिक

हां, मैटरनिटी एक्सपर्ट व क्लीनिकल न्यूट्रीनिस्ट डॉक्टर पूजा मराठे का कहना है कि गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज करना सुरक्षित होता है।

पर ध्यान रखें कि यह गर्भावस्था के चरण, गर्भवती महिला के स्वास्थ्य व गर्भावस्था में कीगल एक्सरसाइज करने के तरीके पर निर्भर कर सकता है। इसके अलावा, प्रेग्नेंसी के दौरान प्रत्येक 10 में से 4 गर्भवती महिलाओं में मूत्र असंयमितता व गर्भावस्था में बवासीर की समस्या देखी जा सकती है। 

दरअसल, प्रेग्नेंसी में बढ़ते गर्भाशय के कारण मूत्राशय, पेट के निचले हिस्से व अन्य मांसपेशियों पर अधिक दबाव बनने लगता है, जिससे पेल्विक की मांसपेशियां कमजोर हो सकती हैं और मूत्र व मल पर नियंत्रण कम हो सकता है। वहीं, प्रेग्नेंसी में कीगल एक्सरसाइज करने के फायदे इन मांसपेशियों को मजबूती दे सकते हैं और इस समस्या को कम कर सकते हैं। 

ऐसे में इस समस्या को कम करने के लिए स्वास्थ्य चिकित्सक गर्भवती महिला के स्वास्थ्य व स्थिति को देखते हुए गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज करने की सलाह दे सकते हैं। 

गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज करने के फायदे (Kegel Exercise in Pregnancy in Hindi)

गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज करने के फायदे और क्या-क्या हो सकते हैं, इसके बारे में विस्तार से नीचे पढ़ें। 

गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज
गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज / चित्र स्रोतः फ्रीपिक

नॉर्मल डिलीवरी के चांसेस बढ़ाए

एक्सपर्ट्स के अनुसार, प्रेग्नेंसी में कीगल एक्सरसाइज करने के फायदे नॉर्मल डिलीवरी के होने की संभावना की बढ़ा सकते हैं और सी-सेक्शन का जोखिम कर सकते हैं। 

  1. प्रसव के दौरान का लेवर पेन कम करे 

प्रसव के दौरान महिला को लेबर पेन से गुजरना होता है। वहीं, इस दर्द के अनुभव को कम करने में कीगल एक्सरसाइज करना लाभकारी हो सकता है। 

  1. प्रसव का सम कम करे

कीगल व्यायाम करने से न सिर्फ लेबर पेन को कम किया जा सकता है, बल्कि प्रसव के समय को भी कम किया जा सकता है। 

  1. पेरिनियल दर्द से राहत

पेरिनेल टियरिंग के दोरान होने वाले पेरिनियल दर्द से राहत दिलाने में भी गर्भवती महिलाओं के लिए केगेल व्यायाम करना लाभकारी हो सकता है। 

  1. प्रीमैच्योर डिलीवरी का जोखिम कम करे

प्रेग्नेंसी में गर्भाशय पर बढ़ते भार के कारण पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को कमजोर हो सकती हैं, जिससे समय से पहले प्रसव होने का जोखिम बढ़ सकता है। ऐसे में गर्भवती महिलाओं के लिए केगेल व्यायाम उनकी मांसपेशियों को मजबूत बनाकर इसकी जखिम कम कर सकता है।

  1. सिस्टोसिल (Cystocele) से बचाव 

सिस्टोसिल (Cystocele) को मूत्राशय का हर्निया (Bladder Hernia) कहा जाता है। यह गर्भावस्था के दौरान अधिकांश गर्भवती महिलाओं में देखा जा सकता है। बढ़ते गर्भाशय से मूत्राशय व योनि के वॉल पर पड़ने वाले दबाव के कारण इसकी समस्या हो सकती है। 

7. मूत्र असंयमितता कम करे

प्रेग्नेंसी के दौरान और बाद में भी महिलाओं को मूत्र की असंयमितता हो सकती है, जिससे बचाव करने में भी प्रेग्नेंसी में कीगल एक्सरसाइज करने के फायदे देखे जा सकते हैं। 

गर्भावस्था में कीगल एक्सरसाइज कब और कितनी बार करें?

  • गर्भावस्था के पहली तिमाही से लेकर, दूसरी व तीसरी के दौरान भी गर्भावस्था में कीगल एक्सरसाइज किया जा सकता है। 
  • हर दिन 2 से 3 सेट के 30 मिनट तक गर्भावस्था में कीगल एक्सरसाइज किया जा सकता है। 

नोट- ध्यान रखें गर्भावस्था में कीगल एक्सरसाइज करने से पहले अपने डॉक्टर की सलाह जरूर लें और अनुभवी की देखरेख में ही गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज करना चाहिए। 

प्रेग्नेंसी में कीगल एक्सरसाइज कैसे करें?

प्रेग्नेंसी में कीगल एक्सरसाइज कैसे करें, इसके लिए नीचे हम क्रमवार तरीके से कीगल एक्सरसाइज कैसे करते हैं इसका तरीका बता रहे हैंः

  • गर्भावस्था में कीगल एक्सरसाइज करने से पहले बाथरूम जरूर जाएं, क्योंकि, कीगल एक्सरसाइज करने के दौरान मूत्राशय खाली होना चाहिए।
  • एक बात का और ध्यान रखें कि अगर प्रेग्नेंसी में कीगल एक्सरसाइज करने के फायदे पाना चाहती हैं, तो प्रेग्नेंसी में केगेल व्यायाम करने से आधे घंटे पहले किसी तरह के पेय न पीएं।  
  • एक बार यह सुनिश्चित हो जाए कि मूत्राशय खाली है, तो अब किसी समतल स्थान पर मैट बिछा कर उस पर बैठ जाए या लेट जाएं।
  • अब पेल्विक फ्लोर की मांसपेशियों को जितना टाइट कर सकती हैं टाइट करें और 3-5 सेकेंड तक इसी मुद्रा में बैठी या लेटी रहें। 
  • इसके बाद 3-5 सेकंड के लिए वापस से सामान्य अवस्था में बैठ जाएं या लेट जाएं और मांसपेशियों को आराम दें।
  • इसी तरह 5-10 बार इसी मुद्रा का अभ्यास किया जा सकता है। 

प्रेग्नेंसी में कीगल एक्सरसाइज के नुकसान क्या हैं?

प्रेग्नेंसी में कीगल एक्सरसाइज के नुकसान भी हो सकते हैं, जिनके बारे में नीचे बताया गया है। 

  • कीगल एक्‍सरसाइज करते समय अगर ब्‍लैडर या मूत्राशय भरा हो, तो इससे मांसपेशियों कमजोर हो सकती हैं। इसके कारण मूत्राशय मार्ग में संक्रमण होने का जोखिम बढ़ सकता है।
  • पेल्विक की मांसपेशियों को धीरे-धीरे टाइट करना चाहिए और फिर रिलैक्स की मुद्रा में भी धीरे-धीरे आना चाहिए। अगर इस दौरान जल्दबाजी की जाए, तो मांसपेशियों पर जोर पड़ सकता है और दर्द हो सकता है। 

गर्भावस्था के दौरान कीगल एक्सरसाइज करने के कई फायदे हैं। ध्यान रखें कि अनुभवी व डॉक्टर की देखरेख में ही गर्भवती महिलाएं कीगल एक्सरसाइज करें और खुद के स्वास्थ्य व बच्चे के स्वास्थ्य को सुरक्षित बनाए रखें।

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop