• Home  /  
  • Learn  /  
  • प्रेग्नेंसी के दौरान सोंठ का लड्डू क्यों खिलाया जाता है?
प्रेग्नेंसी के दौरान सोंठ का लड्डू क्यों खिलाया जाता है?

प्रेग्नेंसी के दौरान सोंठ का लड्डू क्यों खिलाया जाता है?

4 Apr 2022 | 1 min Read

Vinita Pangeni

Author | 260 Articles

प्रेग्नेंसी के समय नए-नए खाद्य पदार्थों को आहार में शामिल किया जाता है। इनसे गर्भवती के शरीर को जरूरी पोषक तत्व भी मिलते हैं और शिशु का अच्छे से विकास भी होता है। ऐसा ही एक खाद्य पदार्थ सोंठ का लड्डू भी है। कुछ महिलाएं इसे प्रेग्नेंसी से बाद भी खाती हैं, लेकिन अधिकांश महिलाएं सोंठ के लड्डू गर्भावस्था के समय ही उपयोग में लाती हैं।

औषधीय गुणों से भरपूर सोंठ कुछ और नहीं, बल्कि सूखे हुए अदरक का पाउडर होता है। गर्भावस्था के लिए सोंठ के लड्डू के फायदे और इसकी रेसिपी के बारे में यहां जानिए।

प्रेग्नेंसी में सोंठ और सोंठ का लड्डू लेना सुरक्षित है?

जी बिल्कुल, प्रेग्नेंसी के समय सीमित मात्रा में सोंठ और सोंठ के लड्डू लेना सुरक्षित माना जाता है। एक मेडिकल रिसर्च की मानें, तो इस समय सोंठ से उल्टी और मतली की समस्या कम हो सकती है। इसे मॉर्निंग सिकनेस की दवाओं और विटामिन-बी6 से भी ज्यादा प्रभावकारी पाया गया है। साथ ही सोंठ से गर्भवस्था में होने वाली अन्य जटिलताओं को भी दूर किया जा सकता है। इनके बारे में हम आगे विस्तार से जानकारी दे रहे हैं।

प्रेग्नेंसी में सोंठ का लड्डू खाने के फायदे

गर्भावस्था के समय सोंठ के लड्डू खाने से कई तरह के लाभ हो सकते हैं। इसके लाभ में ये शामिल हैं।

  1. मधुमेह से बचाव – गर्भकालीन मधुमेह की समस्या को दूर करने में सोंठ फायदेमंद  माना जाता है। दरअसल, सोंठ में एंटी-डायबिटिक गुण होता है, जो ब्लड शुगर को नियंत्रित कर सकता है। रिसर्च में कहा गया है कि अदरक का पाउडर फास्टिंग ब्लड शुगर के साथ ही कई चीजों में प्रभावकारी है। इसके चलते मधुमेह और इससे जुड़ी जटिलताओं को कम किया जा सकता है। ऐसे में सोंठ का लड्डू खाना प्रेग्नेंसी में अच्छा साबित हो सकता है।
  1. इम्युनिटी बूस्ट करे – शरीर की रोग प्रतिरोधक क्षमता को बढ़ाने के लिए भी सोंठ के लड्डू का सेवन किया जाता है। एनसीबीआई की वेबसाइट पर पब्लिश एक वैज्ञानिक शोध के अनुसार, अदरक में इम्यूनोमॉड्यूलेटरी प्रभाव होते हैं। इससे इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने और छोटी-छोटी बीमारियों के जोखिम से बचने में मदद मिल सकती है। 
  1. माइग्रेन से राहत – अगर गर्भावस्था के समय बहुत ज्यादा माइग्रेन होता है, तो इससे राहत पाने में सोंठ के लड्डू मदद कर सकते हैं। माना जाता है कि अदरक शरीर में केमिकल मैसेंजर सेरोटोनिन को बढ़ाकर माइग्रेन को कम कर सकता है। रिसर्च में अदरक के पाउडर को माइग्रेन की दवाई जितना ही प्रभावकारी पाया गया है।
गर्भावस्था में सिर दर्द से परेशान महिला
गर्भावस्था में सिर दर्द से परेशान महिला / स्रोत – पिक्साबे
  1. मेटाबॉलिज्म में सुधार – प्रेग्नेंसी के दौरान चयपाचय से जुड़ी समस्याओं को दूर रखने में सोंठ के लड्डू मददगार साबित हो सकते हैं। दरअसल, इसमें जिंजरोल नामक तत्व होता है, जो लिपिड मेटाबॉलिज्म को बेहतर करता है। इससे चयपाचय अच्छी तरह काम करता है, जिससे पाचन की समस्या भी दूर हो सकती है।
  1. सूजन कम करे – गर्भावस्था में सूजन होना काफी आम है। सूजन की समस्या को कम करने में सोंठ का लड्डू सहायक भूमिका निभा सकता है। दरअसल, सोंठ में एंटीइंफ्लेमेटरी प्रभाव होता है, जिसे सूजन कम करने के लिए जाना जाता है।
  1. पेट की समस्या से राहत – पेट से जुड़ी कई समस्याओं को ठीक करने के लिए भी सोंठ का इस्तेमाल किया जाता है। बताया जाता है कि सोंठ के लड्डू का सेवन करने से प्रेग्नेंसी के समय होने वाली अपच, कब्ज, दस्त, गैस, उल्टी और मतली से राहत मिल सकती है।
  2. सर्दी-जुकाम – अगर प्रेग्नेंसी में सर्दी-जुकाम से परेशान हैं, तो सोंठ के लड्डू के फायदे हो सकते हैं। दरअसल, अदरक के पाउडर को बुखार और सर्दी-जुकाम से राहत दिलाने के लिए जाना जाता है। इसी वजह से चाय में भी अदरक के पाउडर का इस्तेमाल काफी किया जाता है।

सोंठ के लड्डू बनाने की विधि 

सोंठ के लड्डू
सोंठ के लड्डू / स्रोत – अस्प्लैश

सोंठ के लड्डू बनाना काफी आसान है। इसे घर में आसानी से बनाया जा सकता है। बस इसके लिए नीचे बताए गए तरीकों को अपनाना होगा। चलिए, आगे जानते हैं सोंठ के लड्डू बनाने की रेसिपी –

  • सबसे पहले तीन से चार बड़े चम्मच घी को कढ़ाई में हल्का गर्म करें।
  • अब इसमें सोंठ, किशमिश, मखाने, खसखस के दाने और नारियल पाउडर को एक-एक करके डालें और अच्छे से भून लें। 
  • जैसे ही ये सब हल्के सुनहरे होने लगें, तो इन्हें एक बर्तन में निकाल लें।
  • अब सोंठ और मखाने को मूसल में डालकर कूट लें या फिर मिक्सर में डालकर पाउडर बना लें।
  • इतना करने के बाद दोबारा कढ़ाही को गर्म करें और उसमें गुड़ और एक चम्मच पानी डालकर धीमी आंच में गर्म करें।
  • जब गुड़ पिघल जाए, तब इसमें तैयार पाउडर को डाल दें।
  • अब थोड़ा-सा गर्म घी भी डालें।
  • जब ये मिश्रण हल्का ठंडा हो जाए, तो हाथों से गोल-गोल लड्डू बना लें।
  • बस तैयार हैं सोंठ के लड्डू। इन्हें कांच के किसी एयर टाइट कंटेनर में भरकर रख लें।

प्रेग्नेंसी में सोंठ के लड्डू खाने के नुकसान 

प्रेग्नेंसी के दौरान सोंठ के लड्डू खाना लाभकारी होता है। लेकिन कई बार इससे कुछ नुकसान भी हो सकते हैं। इसके नुकसान में ये शामिल हैं –

  • इसे अधिक मात्रा में सेवन करने पर हृदय संबंधी समस्याएं होने का जोखिम बढ़ जाता है।
  • प्रेग्नेंसी के दौरान डायबिटीज के लिए दवाई ले रहे हैं, तो सोंठ के लड्डू लेने से बचें। अन्य ब्लड शुगर जरूरत से ज्यादा कम हो सकता है।
  • अगर खाद्य पदार्थों के प्रति संवेदनशील हैं, तो सोंठ के लड्डू खाने से एलर्जी हो सकती है।

सोंठ के लड्डू को कई सामग्रियों के मिश्रण से तैयार किया जाता है। इसी वजह से यह गर्भावस्था के लिए अच्छा माना गया है। मगर प्रेग्नेंसी में किसी भी तरह की गलती से बचना चाहिए, इसलिए सोंठ के लड्डू को आहार में शामिल करने से पहले डॉक्टर से सलाह जरूर लें। कई बार गर्भावस्था में कई ऐसी दवाइयां चल रही होती हैं, जिनसे सोंठ या सोंठ का लड्डू रिएक्ट कर सकता है। इसलिए सावधानी और डॉक्टरी परामर्श दोनों जरूरी है।

Home - daily HomeArtboard Community Articles Stories Shop Shop