गर्भपात के बाद सेक्स कब करना चाहिए?

गर्भपात के बाद सेक्स कब करना चाहिए?

21 Apr 2022 | 1 min Read

Ankita Mishra

Author | 406 Articles

मिसकैरेज या गर्भपात न सिर्फ शारीरिक रूप से कष्टदायी होता है, बल्कि मानसिक संतुलन को भी बिगाड़ देता है। ऐसे में गर्भपात के बाद सेक्स का फैसला लेना हर कपल के लिए एक अहम फैसला हो सकता है। हालांकि, मिसकैरेज के बाद सेक्स कब करना चाहिए, यह एक चिंता का विषय बन जाता है, खासकर तब जब कपल गर्भपात के बाद गर्भधारण का फिर से प्रयास करना चाहते हो। 

यही वजह है कि इस लेख में हम गर्भपात के बाद सेक्स कब करना चाहिए व गर्भपात के बाद गर्भधारण करने में कितना समय लग सकता है, इसी से जुड़ी जानकारी दे रहे हैं। पढ़ने के लिए स्क्रॉल करें।

गर्भपात के बाद सेक्स कब करना चाहिए?

गर्भपात के बाद सेक्स
गर्भपात के बाद सेक्स / चित्र स्रोतः फ्रीपिक

गर्भपात के बाद सेक्स कब करना चाहिए, यह पूरी तरह से महिला की शारीरिक व मानसिक रिकवरी में लगने वाले समय पर निर्भर कर सकता है। अगर गर्भपात के कुछ हफ्तों बाद महिला का स्वास्थ्य रिकवर हो जाता है, तो वह गर्भपात के एक सप्ताह बाद से ही शारीरिक संबंध बनाने का फैसला ले सकती है। 

क्या मिसकैरेज के बाद सेक्स करने पर कोई परेशानी हो सकती है?

हां, मिसकैरेज के बाद सेक्स करने पर निम्नलिखित परेशानियां हो सकती हैं, जैसेः

यहां बताई गई परेशानियां कुछ मामलों में मिसकैरेज से रिकवरी करने के बाद भी हो सकती हैं, जो धीरे-धीरे अपने आप दूर भी हो सकती हैं। हालांकि, अगर कोई भी परेशानी लंबे समय तक बनी रहती है, तो डॉक्टर से परामर्श जरूर लें।

गर्भपात के बाद गर्भधारण करने में कितना समय लग सकता है? 

डॉक्टर्स के अनुसार, गर्भपात के तुरंत बाद महिला को रक्तस्राव होने लगता है, जो मासिक धर्म का चक्र होता है। ऐसे में रक्तस्राव बंद होते ही गर्भपात के बाद गर्भधारण किया जा सकता है। हालांकि, अगर गर्भपात के बाद गर्भधारण करने में कुछ समय लेना चाहती हैं, तो कम से कम 6 माह का इंतजार करना चाहिए। 

हेल्थ एक्सपर्ट्स के अनुसार, गर्भपात के बाद गर्भवती होने की इच्छा अहम होती है, पर इसके साथ ही माँ के स्वास्थ्य व शिशु की सेहत का भी ध्यान रखना जरूरी होता है। ऐसे में अगर महिला कम से कम 6 महीने के गर्भपात के बाद गर्भधारण करती हैं, तो उनकी गर्भावस्था का चरण अधिक सेहतमंद हो सकता है। 

गर्भपात के बाद तुरंत बाद गर्भधारण करने से किस तरह के जोखिम होते हैं?

तुरंत गर्भपात के बाद गर्भवती होने की इच्छा रखने से उनकी गर्भावस्था कई परेशानियों से जुड़ी हो सकती है। ये परेशानियां न सिर्फ शारीरिक स्वास्थ्य के लिए जखिम बन सकती हैं, बल्कि महिला के मानसिक संतुलन को भी प्रभावित कर सकती हैं, जैसेः

  • दोबारा गर्भपात होना
  • समय से पहले शिशु का जन्म होना
  • जन्म के समय बच्चे का कम वजन होना
  • मातृत्व के अनुभव में कमी महसूस करना
  • मन में दोबारा गर्भपात की चिंता होना

क्या गर्भपात के बाद गर्भनिरोधक का उपयोग किया जा सकता है?

गर्भपात के बाद सेक्स करने के दौरान किस प्रकार के गर्भनिरोधक का इस्तेमाल करना चाहिए, इस बारे में डॉक्टर की उचित सलाह लेनी चाहिए। जैसा कि अगर गर्भनिरोधक के तौर पर दवा या इंजेक्शन का इस्तेमाल किया जाए, तो यह गर्भपात व गर्भावस्था से जुड़ी जटिलताओं को बढ़ा सकता है, क्योंकि इस तरह के गर्भनिरोधक सीधे तौर पर हार्मोन का स्तर प्रभावित कर सकते हैं। 

गर्भपात के बाद सेक्स
गर्भपात के बाद सेक्स / चित्र स्रोतः फ्रीपिक

हालांकि, अगर गर्भपात के बाद योनि का संक्रमण नहीं है, तो डॉक्टर की सलाह पर निम्नलिखित गर्भनिरोधक का उपयोग किया जा सकता है, जैसेः

  1. IUD या अंतर्गर्भाशयी उपकरण (Intrauterine Device) – यह एक टी (T) के आकार का प्लास्टिक उपकरण होता है, जिसे महिला की योनि के अंदर रखा जाता है, जो स्पर्म को महिला की योनि के अंदर जाने से रोकता है। यह गर्भनिरोधक का एक सुरक्षित व सफल तरीका है। हालांकि, इसका इस्तेमाल योनि की रिकवरी होने, रक्तस्राव बंद होने व संक्रमण दूर होने पर ही करना चाहिए। 
  1. IUS या अंतर्गर्भाशयी प्रणाली (Intrauterine System) – यह भी  टी (T) के आकार का प्लास्टिक उपकरण होता है, इसे भी महिला की योनि के अंदर लगाया जाता है। हालांकि, यह महिला के शरीर में प्रोजेस्टोरेन हार्मोन को रिलीज करके गर्भधारण को रोकने में मदद करता है।  
  1. हार्मोनल गर्भनिरोधक – हार्मोनल गर्भनिरोधक यानी गर्भनिरोधक दवाईयां और इंजेक्शन। इनका इस्तेमाल भी करना सुरक्षित हो सकता है। हालांकि, इसके लिए डॉक्टर की उचित सलाह की आवश्यकता हो सकती है। 
  1. कंडोम – कंडोम का इस्तेमाल न सिर्फ गर्भपात के बाद गर्भधारण को रोक सकता है, बल्कि मिसकैरेज के बाद सेक्स करने से होने वाले योनि संक्रमण के जोखिम भी कम कर सकता है। 

किसी भी कपल के रिश्ते में सेक्स का सबसे अहम स्थान होता है। सेक्स न सिर्फ उन्हें शारीरिक रूप से एक करती हैं, बल्कि उन्हें मानसिक रूप से करीब लाने में भी अहम भूमिका निभाती हैं। ऐसे में यह जरूरी है कि गर्भपात के बाद सेक्स करना कब से शुरू करना चाहिए, यह पूरी तरह से दोनों साथी की इच्छा व सहजता पर निर्भर कर सकता है। साथ ही, गर्भपात के बाद गर्भवती होने की इच्छा भी दोनों साथी की आपसी सहमती से होनी चाहिए।

like

9

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop