• Home  /  
  • Learn  /  
  • बेटियां होती है सौभाग्य से, इसलिए खुश किस्मत है आप भाग्य से
बेटियां होती है सौभाग्य से, इसलिए खुश किस्मत है आप भाग्य से

बेटियां होती है सौभाग्य से, इसलिए खुश किस्मत है आप भाग्य से

26 Sep 2021 | 1 min Read

कहते हैं कि बेटे भाग्य से होते हैं और बेटियां सौभाग्य से। यह कहना एकदम सही है, बेटियों से घर की रौनक अलग होती है। लेकिन क्या सही मायनों में हम अपनी बेटियों को वो हक दे पाते हैं जो उन्हें देना चाहिए। आज बेटी दिवस के अवसर पर ऐसी कुछ बाते जो समाज में बेटियों के प्रति सोच को बदले उनके बारे में बात करते हैं।

बेटियां है खिलती कलियां,

नसीब वालों के घर जन्म लेती है ये बेटियां

रखों इनको नाजों से क्योंकि यह है,

मां बाप की शान और, परिवार की जान।

एक माता-पिता जितने अच्छे से अपनी बेटियों को समझ सकते हैं और कोई नहीं। अक्सर जब भी घर में किसी बेटी का जन्म होता है लोग यही कहते है, कि बेटा होता तो अच्छा होता। लेकिन जब बेटियां घर में जन्म लेती है तो शायद वह खुशी नहीं होती जो बेटा होने पर होती है। ऐसा नहीं है कि हर घर में यही होता है, लेकिन बहुत से परिवारों में आज भी बेटियों के लिए सोच सही नहीं है।

कन्या भ्रूण हत्या, बच्चियों के साथ रेप जैसी घटनायें आज भी न्यूज में रहती है। इसकी वजह है लोगों कि मानसिकता जिसे बदलना बहुत जरुरी है। बेटी पैदा होना सबसे खुशी की बात होती है। जरा सोचिए जो लोग नवरा्त्रि पर बिना कन्या को भोग लगाए व्रत नहीं तोड़ते। उसी में से कुछ लोग ऐसे होते हैं जो बेटी के होने पर बधाई तक नहीं देते।

आइए, जानते हैं कि बेटियों को प्यार और सम्मान जताने के कौन-कौन से तरीके हो सकते हैं? 

बेटी का जन्म सौभाग्य की बात

इस बेटी दिवस सबको यही प्रण लेना चाहिए। कि हमें अपनी बेटियों को अच्छी शिक्षा देनी है। बेटियों को बेटे से ज्यादा सम्मान देना है आज हमारे ही देश की कितनी बेटियां ऊंचे पदों पर देश का नाम रोशन कर रही है। क्योंकि उनके पैरेंटस ने कभी कोई फर्क ही नहीं किया होगा। जानते हैं उनके लिए कौन-कौन से निर्णय लेने चाहिए जिनसे उनका भविष्य सुरक्षित बनाया जा सकता है – 

1. बेटी के स्वास्थ्य का रखे ख्याल

एक स्वस्थ महिला ही अपना और अपने परिवार का अच्छी तरह ख्याल रख सकती है इसलिए लड़कियों को बचपन से स्वास्थ्य के प्रति जागरूक बनाना जरूरी हो जाता है। उन्हें बताएं कि नियमित रूप से व्यायाम करना क्यों जरूरी है। किशोरों को हर दिन कम से कम 60 मिनट शारीरिक रूप से सक्रिय होना चाहिए। बच्चियों को स्वस्थ आहार दें। स्वस्थ भोजन आपकी वृद्धि और विकास का एक महत्वपूर्ण हिस्सा है। खूब सारे फल और सब्जियां, साबुत अनाज, विभिन्न प्रकार के प्रोटीन खाद्य पदार्थ और कम वसा वाले डेयरी उत्पाद उन्हें खाने के लिए दें। भरपूर पानी और 7-8 घंटे की नींद का भी ध्यान रखना बहुत जरूरी है।

2. उनके सपनों को दे सम्मान

बहुत से लोगों की सोच यही होती है कि बेटी है तो फिर शादी कर दो जल्दी से। लेकिन यह सोच एक बेटी के भविष्य को बर्बाद कर देती है। जरा सोचिए एक बच्ची के मन में कितने सपने होते है कि उसे कुछ करना है। लेकिन यह सपने सिर्फ सपने ही रह जाते हैं। इसलिए अपनी बेटियों को सपने पूरे करने दे। उन्हें जीवन में हर वह खुशी दे जो उन्हे मिलनी चाहिए। एक बेटे से ज्यादा एक बेटी हमेशा अपने पैरेंटस के लिए सोचती है।

3. बेटी को बनाएं स्ट्रांग

माता पिता को प्यार और अपनापन बेटी ही दिखा सकती है। बेटी के जन्म को एक जश्न की तरह मनाएँ। बेटी को एहसास दिलाए वह कितनी खास है। बेटा और बेटी में कोई भेदभाव नहीं करे। बेटियों को अपने हक के लिए लड़ना सिखाए। अपने लिए आवाज उठाना, उनको भरोसा दिलाया कि हम हमेशा तुम्हारे साथ है।

4. उच्च शिक्षा भी है जरूरी

लड़कियों को आत्मनिर्भर बनाना बहुत जरूरी है क्योंकि इससे उन्हें आर्थिक स्वतंत्रता मिलती है। शिक्षा से ही लड़कियाँ अपने अधिकारों के प्रति सजग हो सकती हैं। वह जमाना गया जब लोग सोचते थे कि लड़कियों को स्कूल भेजना अनावश्यक है। वर्तमान समय में महिलाएं जीवन के सभी क्षेत्रों में पुरुषों के साथ प्रतिस्पर्धा कर रही हैं। आज लोग न केवल गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के महत्व को समझते हैं, बल्कि अपनी बेटियों को स्कूल कॉलेज भेजने लगे हैं। वही कुछ लोग अभी भी अपनी बेटियों को सांस्कृतिक और वित्तीय कारणों से स्कूलों में नहीं भेजते हैं। उन्हें अपनी सोच बदलने की जरूरत है।

बेटियां को जिंदगी उनके तरह से जीने दे, बचपन से यह फील नहीं कराए कि बेटा तुम तो पराए घर की हो। तुम्हारा तो कन्यादान करना, यह घर तुम्हारा नहीं है। आज हमारे देश में सरकार भी बेटियों के हक को लेकर बहुत सजग है। आज बेटियां के हक को लेकर बहुत सारे कानून है। इसलिए इस बेटी दिवस यह संकल्प ले कि बेटियां हमारे परिवार और देश की शान है। बेटी किसी तरह का बोझ नहीं है बेटियों का कन्यादान नहीं, बल्कि बेटी वरदान है। यह सोच सभी में होनी चाहिए, क्योंकि एक बेटी अपने परिवार और देश के लिए पूरे जोश के साथ खड़ी हो सकती है।

बेटी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।

Related Articles:

1. क्या आपकी बेटी आपकी सबसे अच्छी दोस्त है – कभी अपने भी गौर किया होगा कि अगर सिरदर्द हो या और कोई परेशानी आपकी बेटी यही कहेगा माॅं आप रहने दो मैं कर लूंगी। पापा आप थक गए होगे पानी पी लो। बेटियों का स्वभाव कोमल क्यों होता है जानिए- 

2.  बच्चों की बहुत ज्यादा तुलना करना सही नहीं है – नीता और प्रीति दोनों सहेलियां के बीच पक्की दोस्ती थी। लेकिन नीता की एक आदत खराब थी, वह हमेशा प्रीति की … आगे पढ़ने के लिए क्लिक करें p 

3.  माॅं बनने की बाद की नई शुरुआत – एक बेटी से बहू और फिर पत्नी से लेकर माॅं यह सफर बहुत जल्दी में तय हो जाता है इसलिए जानिए कैसे आप अपनी जिम्मेदारियों को बखूबी निभा सकती हैं

like

7

Like

bookmark

1

Saves

whatsapp-logo

1

Shares

A

gallery
send-btn

Related Topics for you

ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop