• Home  /  
  • Learn  /  
  • यहां पढ़ें मेकअप आर्टिस्ट रेनू माहेश्वरी और उनकी गर्भावस्था का सफर
यहां पढ़ें मेकअप आर्टिस्ट रेनू माहेश्वरी और उनकी गर्भावस्था का सफर

यहां पढ़ें मेकअप आर्टिस्ट रेनू माहेश्वरी और उनकी गर्भावस्था का सफर

16 May 2022 | 1 min Read

Ankita Mishra

Author | 406 Articles

जाहिर है हर महिला के गर्भावस्था का सफर एक-दूसरे से बहुत अलग होता है। पर सभी में एक बात कॉमन होती है कि वह अपने गर्भावस्था का सफर खुशहाल बनाने के लिए खुद से जुड़ी कई चीजों को पीछे छोड़ देती हैं। ऐसा ही एक नया अनुभव हम आपको मेकअप आर्टिस्ट रेनू माहेश्वरी का सुनाने वाले हैं। 

बतौर मेकअप आर्टिस्ट रेनू माहेश्वरी ने कई अवॉर्ड जीते हैं। इन्होंनें हर घर की आइडल बहू “पार्वती” से लेकर कई अन्य बड़ी हस्तियों का मेकअप भी किया है। पर इनकी कहानी खास है क्योंकि इन्होंने यह सारा सफर माँ बनने के बाद तय किया। उनके करियर में किस तरह से उनके पति व बेटी का सहयोग रहा, जानने के लिए नीचे पढ़ें।

अपने निजी जीवन और मेकअप आर्टिस्ट बनने के सफर के बारे में कुछ बताएं?

मैंने मोदीनगर के गिन्नी देवी गर्ल्स कॉलेज से ग्रैजुएशन किया है और मुझे लगभग 32 साल हो गए हैं बतौर मेकअप आर्टिस्ट के रूप में खुद की पहचान बनाए हुए। मेरी एक बेटी है, जो 20 साल की है, जो मुझे मेरे करियर में बहुत सपोर्ट भी करती है और वह खुद भी इसमें अपनी दिलचस्पी दिखाती है।

आपके मेकअप आर्टिस्ट बनने का सफर कितना आसान या मुश्किल रहा? 

जब मैं 12 क्लास में थी, तो मेरे घर पर मैगजीन्स आती थी, जिसे मेरी मम्मी पढ़ती थीं। उसे देखकर मुझे भी यह लगता था कि मुझे भी अपने करियर में कुछ करना है, कुछ बनना है और इसी तरह अपना भी नाम इन मैगजीन्स में छपवाना है। 

मुझे ब्यूटिशियन के साथ ही एक मेकअप आर्टिस्ट बनने का भी शौक था। उस समय हमारे पड़ोस में एक आंटी रहती थीं, जो पार्लर का कोर्स सिखाती थीं। तो मैं भी उन्हीं के पास जाती थी और सीखती थी, इनमें मेरी मम्मी ने भी मेरा पूरा साथ दिया। 

यहां तक की जब मैंने थोड़ा बहुत मेकअप का तरीका सीख लिया और मैं क्लाइंट का मेकअप करने के लिए उनके पास जाती थी, तो मेरा हौंसला बढ़ाने के लिए मेरी मम्मी भी मेरे साथ जाती थीं।

आपकी गर्भावस्था का सफर कैसा रहा? इस दौरान आपका अनुभव कितना खास रहा?

रेनू माहेश्वरी और उनकी
रेनू माहेश्वरी और उनकी बेटी

जब में 19 साल की थी, तभी मेरी शादी हो गई और उसके एक साल बाद ही मैं गर्भवती भी हो गई थी। उस समय मुझे गर्भावस्था से जुड़ी किसी तरह की जानकारी नहीं थी और शर्म की वजह से मैं घर में किसी से इस बारे में कोई बात नहीं कर पाती थी। 

ऐसे में मैं मैगजीन्स पढ़ती थी और वहीं से गर्भावस्था से जुड़ी जानकारी को पढ़ती और समझती थी। वहीं से मैंने गर्भावस्था के दौरान खुद की देखभाल करने का तरीका भी सीखा। मुझे मेरी गर्भावस्था के दौरान किसी तरह के परेशानी भी नहीं हुई थी। 

नई मां बनने के बाद ब्रेस्टफीडिंग के चरण को आपने कैसे संभाला?

मेरी गर्भावस्था का सफर पूरी तरह से स्वस्थ था और मैं मैगजीन्स के जरिए इसका ध्यान रखती थी कि गर्भावस्था के दौरान मुझे क्या-क्या खाना चाहिए और वहीं से अपनी डाइट भी खुद से फॉलो करती थी। शायद यही वजह है कि बेटी के जन्म के बाद मुझे ब्रेस्टीफीडिंग से जुड़ी कोई परेशानी नहीं हुई।

माँ बनने का अनुभव पर आप क्या कहना चाहेंगीं?

मेरी नॉर्मल डिलीवरी हुई है। जब मैं नई-नई माँ बनीं, तो मुझे इसका एहसास हुआ कि एक माँ और बेटी या माँ और बेटे का रिश्ता कितना खास होता है। इससे पहले मुझे इस खास रिश्ते का कोई अंदाजा भी नहीं था। एक तो मेरी उम्र भी छोटी थी और मैं बात-बात पर मम्मी से लड़ती-झगड़ती भी रहती थी। मेरी मम्मी भी मुझें डांटती रहती थी, लेकिन जब मैं माँ बनीं, तो मुझे यह पता चला कि आखिर इस रिश्ते का मोल कितना गहरा होता है।

माँ बनने के बाद आपके करियर पर किस तरह का प्रभाव पड़ा?

वैसे तो मेकअप आर्टिस्ट का काम मैंने शादी के पहले से ही शुरू कर दिया था। हालांकि, शादी होने और माँ बनने के कुछ सालों बाद तक मुझे घर और बच्चा ही संभालना पड़ा था। जब मेरी बेटी कुछ बड़ी हो गई, तो मैंने फिर से मेरा ब्यूटी का कोर्स शुरू किया और इसे पूरा किया। उसके बाद, मैं इस सफर में आगे बढ़ी।

बतौर मेकअप आर्टिस्ट मुझे कई आवर्ड से सम्मानित किया गया, जिसमें से एक है दिल्ली के लाल किला में हुए मेहंदी कंपटीशन में फर्स्ट प्राइज जीतना। मुझे यह सम्मान खुद उस समय के हरियाण के बनारसी दास गुप्ता के हाथों से सम्मानित किया था। इससे मुझे बहुत उत्साह भी मिला था।

मेरे करियर में जितना साथ मुझे मेरी माँ से मिला, उतनी ही सहयोग मुझे मेरे पति व बेटी से भी मिलता है। मेरी बेटी जब किताबों, न्यूज व मैंगजीन्स में मेरा नाम देखती है, तो वह बहुत खुश होती है। मेरी बेटी अभी साइंस से ग्रेजुएशन कर रही है और उसने भी फैसला किया है कि ग्रेजुएशन पूरा करने के बाद वह भी अपनी मां की ही तरह उन्हीं के फील्ड में करियर बनाना चाहती है। 

करियर पर फोकस करने वाली अन्य महिलाओं को आप बेबी प्लानिंग के लिए कोई सुझाव देना चाहेंगी?

करियर के अन्य फील्ड में या मेरी तरफ मेकअप के फील्ड में आने वाली सभी महिलाओं से मैं बस यही कहना चाहूंगी कि हमारे पर दो ऑप्शन होते हैं, या तो आप मेकअप किट संभाल लो या आप किड संभाल लो। तो मैं तो यही कहूंगी कि पहले आप किड संभाल लें।

बच्चे को थोड़ा बड़ा होने दें। उसकी परवरिश व देखभाल में सहयोग करें। जब बच्चा समझदार हो जाए, तब आप करियर या मेकअप किट पर फिर से फोकस कर सकती हैं।    

तो यह थी हमारी स्पेशल मॉम रेनू माहेश्वरी और उनकी गर्भावस्था का सफर। इसी तरह हम आपको कई और माँ  और उनके सफर से मिलवाते रहेंगे। साथ ही, गर्भावस्था व बच्चे की देखभाल से जुड़ी अन्य जानकारी के लिए पढ़ते रहें बेबीचक्रा।

like

10

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop