• Home  /  
  • Learn  /  
  • अपने बच्चे को बदलते मौसम की बीमारियों से कैसे बचाएं
अपने बच्चे को बदलते मौसम की बीमारियों से कैसे बचाएं

अपने बच्चे को बदलते मौसम की बीमारियों से कैसे बचाएं

18 Aug 2022 | 1 min Read

Mousumi Dutta

Author | 94 Articles

अक्सर देखा जाता है कि बदलते मौसम में शिशु हो या बच्चे सभी किसी न किसी बीमारी के चपेत में आ जाते हैं। चाहे माँ बदलते मौसम के प्रभाव से बचाने के लिए कितने ही एहतियात बरतें सर्दी- खाँसी, बुखार जैसी आम बीमारियाँ बच्चों को परेशान कर ही देती हैं। पता है, आप सोच रहें होंगे कि आखिर कैसे बदलते मौसम का समय हो या बारिश, गर्मी या ठंड का मौसम हो, उसके साइड इफेक्ट्स से बच्चों को बचाया जा सकता है। 

इसके लिए चलिए पहले ये जानते हैं कि कौन-कौन-सी ऐसी बीमारियाँ हैं, जो बच्चों को हर बदलते मौसम में परेशान करती हैं।

बदलते मौसम में बच्चों को परेशान करनेवाली बीमारियाँ/ चित्र स्रोत: फ्रीपिक

बदलते मौसम में  बच्चों को परेशान करनेवाली बीमारियाँ l Common ailments of kids during changing seasons

कुछ ऐसी बीमारियाँ हैं जो हर बदलते मौसम में बच्चों को अपने चपेत में ले लेती हैं। क्योंकि मौसम में बदलाव के दौरान कभी तो बहुत बारिश होती है तो कभी बहुत गर्मी। तापमान के उतार-चढ़ाव के कारण बच्चों को सर्दी-खांसी और बुखार जैसी बीमारियाँ होने लगती हैं।

  1. बदलते मौसम में सर्दी-खाँसी होना: इन बीमारियों  में बार-बार छींक आना, नाक से पानी बहना, गले में खराश होने जैसे लक्षण बच्चों को महसूस होने लगते हैं। 

रोकथाम का उपाय इस प्रकार हैं-

  • इससे बचने के लिए बच्चों को पूरे बाँह के कपड़े पहनाकर रखें ताकि शरीर गर्म रहें। 
  • सर्दी-खाँसी होने पर बच्चे बार-बार हाथ मुँह में देते हैं इसलिए हाथ को नेचुरल हैंडवाश से धुलाते रहें ताकि हाथ जर्म फ्री रहे। 
  • शरीर की इम्यूनिटी को बढ़ाने के लिए काढ़ा आदि का सेवन करवाएं।
  • हल्दी-दूध पिलाने से खाँसी से जल्दी आराम मिलता है।
  • कैम्पर फ्री वेपर पैच का इस्तेमाल करने से बच्चों को बंद नाक से जल्दी आराम मिलता है।
  • कपालभाती जैसे योगासन का अभ्यास बच्चों को करवाने से साँस लेने और छोड़ने की प्रक्रिया में आसानी होती है।

आयुष के अनुसार उपचार के उपाय इस प्रकार है-

  • गले में खराश हो तो गुनगुने गर्म पानी से गरारा करवाएं।
  • नीलगिरी तेल की कुछ बूंदें डालकर बच्चे अगर भाप लें तो उन्हें सर्दी-जुकाम से राहत मिलती है।
  • गुनगुने गर्म पानी से बच्चों को नहलाने से उनको चेस्ट कंजेशन और सरदर्द से आराम मिलता है।
  • होम्योपैथी दवा में डॉक्टर के सलाह के अनुसार एकोनाइट 30 और बेलाडोना 30 देने से बच्चों को जुकाम से जल्दी राहत मिलता है। 
  1. मौसम बदलने पर बच्चों को पेट संबंधी समस्याएं होना: ऐसे समय बच्चों को दस्त, पेट दर्द, कब्ज, एसिडिटी जैसी समस्याएं ज्यादा होती हैं। 

रोकथाम का उपाय इस प्रकार हैं-

  • बाहर का खाना खाने से बच्चों को मना करना
  • पानी को उबालकर पिलाना
  • बच्चों को पेट दर्द होने पर पेट पर टमी रोल ऑन का इस्तेमाल करने पर जल्दी आराम मिलता है। यह नेचुरल चीजों से बना रोल ऑन है, जिसका आप इस्तेमाल आप आसानी से कर सकते हैं। इसमें हींग होता है, जो पेट दर्द से राहत दिलाने में मदद करता है।
  • बच्चे जब भी बाहर से आए तब हाथ, पैर और मुँह को बेबी मॉइश्चराइजिंग बेबी वाश से धुलाएं ताकि स्किन हाइड्रेटेड रहें और रूखे भी न हों। इससे बाहर के बैक्टीरिया से उन्हें बचाया जा सकता है।

आयुष के अनुसार उपचार के उपाय इस प्रकार है-

  • ज्यादा-ज्यादा पानी और तरल पदार्थ पिलाएं।
  • खाने में अदरक का इस्तेमाल करें, बच्चों को उल्टी और मतली जैसी समस्याओं से जल्दी राहत मिलता है।
  • डॉक्टर से सलाह लेकर होम्योपैथी दवा में नक्स वोमिका 30 का सेवन कराने से भी  बच्चों को बदहजमी और पेट संबंधी समस्याओं से  जल्दी लाभ मिलता है।
  1. बारिश गिरने पर मच्छर के काटने से होने वाली बीमारियाँ– यह तो आप जानते ही हैं कि बारिश होने पर मच्छरों का प्रकोप बढ़ जाता है। मच्छरों के काटने से डेंगू, मलेरिया जैसे रोग बच्चों को अपने चपेत में ले लेते हैं। 

रोकथाम का उपाय इस प्रकार हैं-

  • बच्चों को मच्छरों से काटने से बचाने के लिए आप मॉस्क्विटो रिपेलेंट स्प्रे का इस्तेमाल करें। यह बच्चों के लिए बिल्कुल सेफ होता हैं। नीम तेल से बना मॉस्क्विटो रिपेलेंट स्प्रे मच्छरों से बच्चों को दूर रखता है।
  • इसके अलावा आप मॉस्क्विटो पैचेस का इस्तेमाल कर सकते हैं। बच्चों के बैग या कपड़ों पर लगा देने से मच्छर बच्चों के आस-पास भी नहीं आएंगे। 

आयुष के अनुसार उपचार के उपाय इस प्रकार है-

  • अगर मच्छर के काटने से बुखार हो रहा है तो खाने में पपीता आदि का सेवन करवाएं, इससे प्लेटलेट्स की कमी नहीं होती है।
  • मेथी का पानी इम्युनिटी को बढ़ाने में पूरी तरह से मदद करता है। 
  • ज्यादा से ज्यादा तरल पदार्थ और पानी पिलाने से बच्चों को बुखार के लक्षणों से जल्दी आराम मिलता है।

इसके अलावा बदलते मौसम के प्रभाव से बच्चों को बचाने के लिए इन बातों का ध्यान रखें-

  • घर में कहीं भी पानी जमने न दें
  • फूलों का गमला और एसी आदि को साफ रखें
  • बच्चों को बिस्तर में मच्छरदानी लगाकर सुलाएं
  • बाहर से आने के बाद हाथ को धुलाना बिल्कुल न भूलें
  • अगर किसी बच्चे को डेंगू या मलेरिया, बुखार, सर्दी-खाँसी हुआ है तो वह दूसरे बच्चों के करीब न जाएं।

संबंधित लेख:

शिशु को मच्छरों से बचाएंगे तुलसी और एलोवेरा, जानें कैसे

बच्चों को डेंगू-मलेरिया से बचाने के लिए ऐसे करें तैयारी, पास भी नहीं फटकेगा मच्छर

मच्छरों से बचने के आसान तरीके व घरेलू उपचार

बच्चों को कीड़ा काट ले तो तुरंत आजमाएं ये 5 नुस्खे

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn

Related Topics for you

ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop