प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस (Pregnancy Mein Loose Motion ka Ilaj)

प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस (Pregnancy Mein Loose Motion ka Ilaj)

21 Jun 2018 | 1 min Read

प्रेगनेंसी के दौरान महिलाओं को पहली और तीसरी तिमाही में Loose Motions हो सकते हैं। यह एक तरह से शरीर डिलीवरी के लिए तैयार कर रहा होता है। दस्त या Loose Motions इसलिए भी होते हैं क्योंकि बच्चा बड़ा हो रहा होता है। इसके साथ-साथ आपको उल्टी आना, उल्टी जैसा मन होना, सिरदर्द भी हो सकता है। कई बार,प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस की वजह भी वही होती है, जो बड़ों या उन महिलाओं को जो गर्भवती नहीं है जैसे – बैक्टीरियल इन्फेक्शन, टाइफाइड, कॉलरा, हेपेटाइटिस A, हेपेटाइटिस E , गंदे पानी या खाने की वजह से फ़ूड पॉइज़निंग।

आइए प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस के मुख्य कारणों पर डालते हैं एक नजर –

प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस के कारण – Causes of loose motions in pregnancy

प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस प्रमुख कारण के बारे में हमने जो जानकारी हासिल की है उसके अनुसार यह बहुत आम समस्या है जो खान-पान में गड़बड़ के कारण पैदा हो सकती है, आइए और अधिक जानते हैं –

1. आहार में बदलाव

कई महिलाओं जब गर्भवती होती हैं तो उन्हें कई तरह के अलग-अलग भोजन खाने का मन करता है। आपके भोजन के सेवन में यह अचानक बदलाव आपके पेट को खराब कर सकता है और दस्त का कारण बन सकता है।

2. फ़ूड सेंसीटिविटी

कुछ ख़ास खाने की चीज़ें प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस का कारण बन सकती हैं। जिन खाद्य पदार्थों ने आपको गर्भवती होने से पहले कभी नुकसान नहीं दिया हो वो प्रेगनेंसी के दौरान गैस और पेट खराब होने का कारण बन सकते हैं।

3. विटामिन और आयरन

प्रेगनेंसी के दौरान विटामिन और आयरन लेना आपके स्वास्थ्य के साथ-साथ आपके बढ़ते बच्चे के स्वास्थ्य के लिए भी अच्छा माना जाता है। कभी-कभी ये विटामिन आपके पेट को खराब कर सकते हैं और दस्त का कारण बन सकते हैं।

4. हार्मोन में बदलाव

प्रेगनेंसी के दौरान बदलते हार्मोन आपके पाचन तंत्र को धीमा कर सकते हैं, जिससे गर्भावस्था में कब्ज की समस्या हो सकती है। इसी तरह ये हार्मोन पाचन तंत्र को तेज भी कर सकते हैं, जिससे दस्त की समस्या हो सकती है।

प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस से बच्चे पर क्या असर होता है ?

एक दिन में तीन या उससे अधिक पतले मोशन का आना दस्त माना जाता है। लगातार दस्त से निर्जलीकरण और कुपोषण हो सकता है। यह दोनों समस्याएं गर्भावस्था के दौरान महिला और भ्रूण को नुकसान पहुंचा सकती हैं, प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस हों तो नीचे लिखी बातों का ध्यान रखें –

  • प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस आपके अजन्मे बच्चे को तब तक नुकसान नहीं पहुंचाता जब तक कि स्थिति गंभीर न हो।
  • अगर किसी गर्भवती महिला में दस्त की स्थिति गंभीर है, तो यह माँ के शरीर में निर्जलीकरण (डीहाईड्रेशन) का कारण बन सकता है और बच्चे में रक्त के प्रवाह को बाधित कर सकता है। ये भी पढ़ें – Amniotic Fluid Meaning in Hindi
  • दूसरी या तीसरी तिमाही के दौरान गर्भाशय और पेट में संक्रमण जैसी जटिलताओं के कारण होने वाला दस्त भ्रूण के लिए जोखिम भरा हो सकता है।
  • गंभीर और ठीक न होने वाले दस्त से पीड़ित गर्भवती महिलाओं को तत्काल चिकित्सा सहायता लेनी चाहिए।

प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस से बचने के उपाय – Tips to avoid loose motions in pregnancy

आप कुछ सरल आदतों को अपनाकर प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस की समस्या से बच सकती हैं और अपने गर्भस्थ शिशु को संक्रमित होने से बचा सकती हैं –

  • नल के साधारण पानी से बचें क्योंकि इसमें बैक्टीरिया और वायरस हो सकते हैं।
  • स्ट्रीट वेंडर्स से दूर रहें और उन फलों से बचें जिन्हें छील नहीं सकते क्योंकि उनमें रोगाणु हो सकते हैं।
  • अधपके मांस, अंडे और बिना उबाले दूध का प्रयोग न करें, इसमें बैक्टीरिया हो सकते हैं।
  • गंदे स्थानों पर न जाएं क्योंकि गंदगी से वायरस और बैक्टीरिया के संपर्क में आने की संभावना अधिक होती है।
  • बुनियादी स्वच्छता बनाए रखें और अपने हाथ बार-बार धुलें या हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग करें।

उम्मीद करते हैं कि अब जब आप दस्त के कारणों, लक्षणों और रोकथाम के बारे में जान गए होंगें, जिससे प्रेगनेंसी में लूज़ मोशंस की स्थिति से खुद को आप बचा सकती हैं। जल्दी राहत पाने के लिए आप डॉक्टर से सम्पर्क करें और बताए गए बचाव के उपायों पर भी विचार करें। गर्भावस्था के दौरान पेट की किसी भी समस्या से बचने के लिए स्वस्थ भोजन करें और स्वच्छ रहें।

Related Articles –

गर्भावस्था में दस्त से कैसे बचें ? – गर्भावस्था के दौरान छोटी सी भी समस्या गंभीर रूप ले सकती है इसलिए सभी तरह की स्वास्थ्य समस्याओं को गंभीरता से लेना चाहिए, जानिए दस्त की समस्या से कैसे बचें?

डिलीवरी के लक्षण जानिए – लेबर पेन शुरू होने से पहले गर्भवती महिला को कई तरह के संकेत मिलते हैं जिनके बारे में जानकारी इसलिए जरूरी है ताकि सही वक़्त पर अस्पताल पहुंचा जा सके।

हर ट्राईमेस्टर में उपयोगी हैं ये टिप्स – गर्भावस्था एक नाजुक अवस्था होती है जिसमे प्रत्येक तिमाही के दौरान लक्षण और परिस्थिती बदलती हैं, कैसे रखें इनमें ख्याल जानने के लिए जरूर पढ़ें।

#pregnancymust #garbhavastha

Home - daily HomeArtboard Community Articles Stories Shop Shop