पश्च नाल (पोस्टीरियर प्लेसेंटा) क्या है, जानते हैं आप?

cover-image
पश्च नाल (पोस्टीरियर प्लेसेंटा) क्या है, जानते हैं आप?

जब गर्भावस्था परीक्षण सकारात्मक आता है, तो महिला का जीवन बदलने की यात्रा शुरू हो जाती है। जैसे-जैसे बच्चा बढ़ता है और गर्भावस्था आगे बढ़ती है, आप भी परिवर्तनों से गुजरते हैं: आपके शरीर, भावनाओं और जीवन शैली में बहुत बदलाव आ जाते हैं। इस दौरान आपके मन में कई प्रश्न भी रहते हैं जिनका जवाब पाने के लिए आपको विश्वसनीय जानकार की जरूरत होती है। बेबीचक्रा आपका सबसे अच्छा सलाहकार है जो आपके संदेह दूर करने के लिए वैज्ञानिक रूप से परखी हुई जानकरी जुटाने का कार्य करता है, इस लेख में जानिए कि अपरा क्या है और पश्च नाल (पोस्टिरीयर प्लेसेंटा) किसे कहते हैं?

प्लेसेंटा या पश्च नाल (पोस्टीरियर प्लेसेंटा) क्या है?

जब आप गर्भवती होती हैं, तो प्लेसेंटा नामक एक अंग गर्भाशय (गर्भ) के भीतर विकसित होता है, जो आपके और आपके बच्चे के बीच ऑक्सीजन, भोजन व अन्य पदार्थों के आदान प्रदान में सहायता करता है। यह माँ के रक्त से विकासशील भ्रूण को सभी आवश्यक पोषक तत्व और ऑक्सीजन पहुँचाता है। नाल की एक चौड़ी, डिस्क के आकार की सतह होती है, और एक तरफ माँ के गर्भाशय से जुड़ी होती है जबकि दूसरी तरफ गर्भनाल शिशु को नाल से जोड़ती है। पोस्टीरियर प्लेसेंटा, प्लेसेंटा की उस स्थिति को कहा जाता है जिसमें प्लेसेंटा गर्भाशय की पिछली वॉल से जुड़ा हो।


प्लेसेंटा / पश्च नाल का के कार्य - Functions Of The Placenta / Posterior Placenta

यह पूरी तरह से सामान्य है और किसी भी तरीके से बच्चे के विकास को प्रभावित नहीं करता है। पोस्टीरियर प्लेसेंटा का मतलब है कि आपका प्लेसेंटा आपके गर्भाशय की पिछली सतह पर स्थिति हो गया है। इसका मतलब यह है कि आपको अपने बच्चे की गतिविधियों का काफी पहले और मजबूत अहसास हो सकता है। जबकि जिनका प्लेसेंटा आगे रहता है,उन्हें मूवमेंट्स अपेक्षाकृत कम महसूस होती हैं। पोस्टीरियर प्लेसेंटा का एक और लाभ यह भी है कि यह बच्चे को नॉर्मल डिलीवरी के लिए यह बर्थ कैनाल में आने की सुविधा देता है।


पश्च नाल (पोस्टीरियर प्लेसेंटा) होने के कारण - Cause of posterior placenta

यह आमतौर पर तब होता है जब अंडा फर्टिलाइज़ होता है और नाल गर्भाशय की पीछे की दीवार के अंदर जुड़ा होता है। जैसे ही गर्भाशय का विस्तार होता है, बच्चे के विकास के साथ नाल भी पीछे की दीवार पर बढ़ता है। पूर्ण विकसित होने पर यह पोस्टीरियर प्लेसेंटा होने का कारण बनता है।


पश्च नाल (पोस्टीरियर प्लेसेंटा) से जुड़े कुछ मिथक - Some myths related to posterior placenta

पोस्टीरियर प्लेसेंटा बहुत विशेष स्थिति नहीं है और ध्यान रहे कि पश्च नाल (पोस्टीरियर प्लेसेंटा) को बिल्कुल आदर्श स्थिति भी नहीं कहा जा सकता और एंटीरियर प्लेसेंटा जैसा ही यह काम करता है। जैसे-जैसे गर्भावस्था आगे बढ़ती है प्लेसेंटा अपना स्थान बदल सकता है। पोस्टीरियर प्लेसेंटा से जुड़ी कुछ मान्यताएं हमारे समाज में प्रचलित हैं, जिनका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है इसलिए इन पर पूर्ण विश्वास करना सही नहीं माना जाता।

सी-सेक्शन का खतरा

नहीं, विशेषज्ञ ऐसा नहीं मानते हैं। आप पोस्टीरियर प्लेसेंटा के साथ सामान्य प्रसव करवा सकती हैं।

प्रीटरम डिलीवरी का खतरा

प्रसूति के लिए राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय दिशानिर्देश इस सिद्धांत का समर्थन नहीं करते हैं। इसे एक मिथक माना जाता है।

जेंडर की पुष्टि

यह सिद्धांत भी वैज्ञानिक रूप से सिद्ध नहीं है। प्लेसेंटा की स्थिति किसी भी तरह से भ्रूण के लिंग को प्रभावित नहीं करती है।

पश्च नाल (पोस्टीरियर प्लेसेंटा) के फायदे - Benefits Of Posterior Placenta


पोस्टीरियर प्लेसेंटा या एंटीरियर प्लेसेंटा दोनों स्थितियों को ही सामान्य माना जाता है। अगर यह प्लेसेंटा सर्विक्स के करीब नहीं है तो यह प्रसव के लिए एक आदर्श स्थिति हो सकती है, पोस्टीरियर प्लेसेंटा का दूसरा लाभ यह कि आपके बच्चे की गतिविधियों को आप जल्दी महसूस करने में सक्षम हो सकती हैं।

पश्च नाल (पोस्टीरियर प्लेसेंटा) के नुकसान - Posterior Placenta Side Effects

प्लेसेंटा की स्थिति गर्भस्थ बच्चे के पोषण और विकास में बाधा नहीं डालती है बल्कि यह प्रसव को आसान या मुश्किल बना सकती है। अगर पोस्टीरियर प्लेसेंटा या एंटीरियर प्लेसेंटा सर्विक्स को कवर कर लेता है तो यह स्थिति प्लेसेंटा प्रीविया कहलाती है। यह एक बाधा के रूप में कार्य कर सकता है और प्रसव के दौरान शिशु के सिर के नीचे उतरना मुश्किल बना सकता है। यदि पोस्टीरियर प्लेसेंटा, सर्विक्स के बहुत करीब हो तो इससे गर्भावस्था के दौरान अत्यधिक रक्तस्राव हो सकता है और समय पूर्व प्रसव(प्री-टर्म डिलीवरी) भी हो सकती है।

तो इस लेख में आपने जाना कि पोस्टीरियर प्लेसेंटा क्या है और यह शिशु और माँ पर क्या प्रभाव डालता है। गर्भावस्था के दौरान प्लेसेंटा की स्थिति और निकटता निर्धारित करने के लिए अल्ट्रासाउंड नियमित रूप से किया जाता है। कुछ आधुनिक तकनीक और बार-बार अल्ट्रासाउंड करने से डॉक्टर को जन्म से बहुत पहले नाल की स्थिति का पता चल जाता है। इससे उन्हें सभी जोखिम कारकों पर विचार करने के लिए डिलीवरी की योजना बनाने में मदद मिलती है। स्वास्थ्य देखभाल टीम पोस्टीरियर प्लेसेंटा के साथ एक नियोजित सर्जिकल सिजेरियन सेक्शन करके जटिलताओं और खतरों को कम करने के लिए पूरी तरह से तैयार रहती है।

Related Articles:

Banner Image Source: freepik.com

#babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!