शिशु के साथ पहली हवाई यात्रा

cover-image
शिशु के साथ पहली हवाई यात्रा

यदि आप इस लेख को पढ़ रहे हैं, तो मुझे यकीन है कि आप जल्द ही अपने बच्चे के साथ हवाई यात्रा (Infant Travel In Flight) करने की योजना बना रहे हैं, इसलिए सबसे पहले 'सुरक्षित और सहज हवाई यात्रा की शुभकामनाएं' और दूसरी बात ' आप चिंता न करें , हवाई यात्रा आपके शिशु के लिए बहुत आसान हो सकती है अगर आप कुछ बातों का ध्यान रखें '। यह उतना मुश्किल नहीं है जितना लगता है। बेबी चक्रा के इस आर्टिकल में हम वो सब बताने की कोशिश कर रहे हैं जिसके बारे में आपको जानकारी होनी चाहिए जैसे घरेलू उड़ान में शिशु किराया कितना होता है और शिशु के लिए कौन-कौन से दिशा-निर्देश दिए जाते हैं।

चलिए सबसे पहले जानते हैं कि हवाई जहाज में शिशु के साथ यात्रा करते समय किस तरह की दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है?

शिशु के साथ हवाई यात्रा की समस्याएं - (Problems In Travelling With Infant)

अधिकांश शिशुओं के लिए हवाई यात्रा (Infant Travel In Flight) सुरक्षित होती है। कुछ छोटी-मोटी समस्याओं की वजह से डरने की जरूरत नहीं है, उनके समाधान पर एक नजर डालते हैं -

  • संक्रमण : नवजात शिशुओं की प्रतिरक्षा प्रणाली अल्प विकसित होती है और हवाई यात्रा से संक्रामक बीमारी का खतरा बढ़ सकता है।
  • कान में दर्द: आपके बच्चे के कान में हवाई यात्रा के दौरान केबिन में हवा का दबाव बदलने से दर्द हो सकता है। बच्चे के कान में दर्द की वजह से वो परेशानी महसूस कर सकता है।
  • अधिक शोर: इसके अलावा, हवाई जहाज के केबिन में बहुत शोर होता है, खासकर टेकऑफ़ (हवाईजहाज के उड़ान) के दौरान, इससे बच्चे के साथ हवाई यात्रा (Infant Travel In Flight) में असुविधा ही सकती है।
  • सांस लेने में तकलीफ: विमान के केबिन में हवा का दबाव जमीन पर हवा के दबाव से कम होता है। ऑक्सीजन के स्तर में यह अस्थायी परिवर्तन, स्वस्थ शिशुओं के लिए समस्या पैदा नहीं करता है लेकिन प्री-मैच्योर बच्चे या जिन्हें हृदय या फेफड़ों की समस्याएं हैं उनके लिए उड़ानें मुश्किल हो सकती हैं।
  • सिटिंग प्रॉब्लम: अगर आपने शिशु के लिए टिकट नहीं खरीदी है यानि घरेलू उड़ान में शिशु किराया नहीं दिया है तो विमान में बच्चे को गोद में लेकर बैठने से थोड़ी असुविधा पैदा हो सकती है।

शिशु के साथ हवाई यात्रा के लिए टिप्स - Tips For Infant Travel In flight

सबसे जरूरो सलाह ये है कि अपनी बुकिंग करने से पहले अपने बच्चे के बाल रोग विशेषज्ञ के साथ बात ज़रूर करें। यह विशेष रूप से महत्वपूर्ण है अगर आपका बच्चा समय से पहले पैदा हुआ है। इसके अलावा नीचे लिखी बातों का ध्यान रखें -

  • यदि आप एक शिशु के साथ यात्रा करने का निर्णय लेते हैं , तो बार-बार अपने हाथ धोएं या हैंड सैनिटाइज़र का उपयोग करें और स्पष्ट रूप से बीमार यात्रियों के साथ संपर्क से बचें।
  • अपने बच्चे के कान में दबाव को कम करने में मदद करने के लिए, अपने बच्चे को हवाई जहाज के उड़ने से पहले दूध की बोतल दें।
  • यदि आपके शिशु की पिछले दो सप्ताह में कान की सर्जरी या कान का संक्रमण हुआ है, तो उसके डॉक्टर से पूछें कि क्या शिशु के लिए हवाई यात्रा ठीक रहेगी।
  • टेक ऑफ के शोर से बच्चे को बचाने के लिए रुई के फाहे या नॉइज़-कैंसलिंग हेडफ़ोन इयरप्लग इत्यादि का उपयोग करें।
  • अगर आपके शिशु को ह्रदय और फेफड़ों से जुड़ी कोई परेशानी है तो उड़ान भरने से पहले अपने बच्चे के डॉक्टर से बात करें
  • यदि आप अपने शिशु के लिए टिकट नहीं खरीदतें हैं , तो विमान में चढ़ते समय रिक्त सीटों के बारे में पूछें - यदि कोई आपके शिशु को दी जा सके ।
  • उड़ान के दौरान नींद दिलाने के अपने बच्चे को कोई ओवर-द-काउंटर दवा, जैसे कि डिफेनहाइडरामाइन (बेनाड्रील) देने का ना सोंचें। विशेषज्ञ इसके सख्त खिलाफ रहतें हैं, और कभी-कभी ये दवा विपरीत प्रभाव डाल सकती है।
  • जन्म के तुरंत बाद यात्रा करने की आवश्यकता है, तो विशेषज्ञ स्वस्थ बच्चे के साथ उड़ान भरने से पहले सात से 14 दिनों के बीच प्रतीक्षा करने की सलाह देते हैं।
  • जब तक आपका बच्चा कम से कम ४ से ६ सप्ताह का नहीं हो जाता, तब तक इंतजार करना अच्छा विकल्प है।

एयरलाइन की शिशु यात्रा नीति की जाँच करें - Check the airline's baby travel policy

यदि आपको अपने नवजात शिशु के साथ हवाई यात्रा (Infant travel in flight) करनी है, तो अपनी एयरलाइन से बुकिंग करने से पहले एक बार बात कर लें। क्यूंकि इसके लिए कोई स्थाई मापदंड नहीं है। एयरलाइंस के पास न्यूनतम आयु मानदंड होता है , जिन पर आपको विचार करना होगा।
सामान्यतया, अधिकांश एयरलाइंस सात दिन से कम उम्र के शिशुओं को हवाई यात्रा के लिए स्वीकृति नहीं देतीं हैं । कुछ एयरलाइंस के लिए, न्यूनतम उम्र 14 दिन है। यदि आपका बच्चा जल्दी पैदा हुआ था, तो आपको उसकी आयु उसकी नियत तारीख से गिननी होगी, उस दिन नहीं जब वह पैदा हुआ था।

कुछ एयरलाइंस आपको अपने डॉक्टर से एक फिट-टू-फ्लाई सर्टिफिकेट प्रदान करने के लिए कहेंगी यदि आपका बच्चा दो सप्ताह से कम उम्र का है।
आपको दो साल से कम उम्र के शिशु के लिए ,वयस्क टिकट के किराये का एक प्रतिशत भुगतान भी करना होगा, भले ही वह उड़ान के दौरान आपकी गोद में हो। यदि, आपका बच्चा दो साल का हो जाता है, तो आपको चयनित रूट के लिए अलग से टिकट खरीदने की आवश्यकता होगी।

हवाई यात्रा के दौरान शिशु का भोजन - Baby Food During Air Travel

हवाई जहाज में शिशु (Infant Travel In Flight) को विशेष रूप से निर्जलीकरण का खतरा होता है, इसलिए यदि आपका बच्चा विशेष रूप से स्तनपान कर रहा है, तो उसे थोड़े थोड़े अंतराल पर स्तनपान कराएं। स्तनदूध में ज्यादातर पानी होता है, जिससे आपके बच्चे को कई अतिरिक्त मात्रा मिल जाती है।
यदि वह फॉर्मूला या ठोस पदार्थों पर है, तो उसे उड़ान के दौरान उबले हुए या ठंडे पानी के साथ मिक्स करके दें। आप अलग-अलग बोतलों या फ्लास्क में पानी पीने भरकर सुरक्षित ले जा सकते हैं। हवाई जहाज के उड़ते और उतरने के दौरान अपने बच्चे को शांत रखने के लिए, उसे स्तनपान कराएं या फॉर्मूला फीड दें।
अधिकांश एयरलाइन केबिन क्रू( विमान कर्मचारी) दूध गर्म करने के स्वीकृति दे देते हैं ,लेकिन यात्रा से पहले दूध को अच्छी तरह जांच लें । यदि आपके बच्चे के खाने के ठोस पदार्थ, रेडी-मेड बेबी फूड या घर का बना खाना ले जा रहे हैं , तो कंटेनरों में लेना ठीक है। यदि यात्रा लंबी हो तो उन्हें साफ़ और ठन्डे बैग में रखें । आपके हाथ के सामान में तरल पदार्थ ले जाने के सामान्य नियम आपके बच्चे के लिए भोजन या दूध पर लागू नहीं होते हैं।

एयरलाइंस कभी-कभी रेडी-टू-सर्व बेबी फूड के चयन का भण्डार रखती हैं। लेकिन अगर आपका शिशु ठोस पदार्थों के लिए तैयार नहीं है , तो हवाई यात्रा के दौरान इसकी शुरुआत ना करें । उन चीज़ों को साथ ले जाएँ जिसके बारे में आप जानते हैं और आपके बच्चे को वह पसंद हैं।

अपने खाने का भी ख्याल रखें । सभी एयरलाइंस भोजन नहीं परोसती , और अगर परोसतीं हैं तो हो सकता है आप खाने में सक्षम ना हो पाएं , यदि आपका बच्चा आपकी गोद में बैठा है। डिस्पोजेबल नैपी बैग, गंदे बोतल, जार या प्लेट के लिए एक बैग अलग से रखें और कुछ अतिरिक्त चम्मच और बेबी वाइप्स साथ ले जाना न भूलें ।

ज़रूरी दस्तावेज़ - Required Documents

आपको उम्र का एक वैध प्रमाण प्रदान करना होगा, जैसे कि आपके बच्चे का जन्म प्रमाण पत्र।यदि आप विदेश में उड़ान भर रहे हैं, तो आपके बच्चे को अपने पासपोर्ट और, यदि लागू हो, तो वीजा की आवश्यकता होगी। अपने ट्रैवल एजेंट से बात करें या अधिक जानकारी के लिए एयरलाइन की वेबसाइट देखें। पासपोर्ट और वीज़ा के लिए आवेदन उचित समय के साथ करें। आवदेन की प्रक्रिया का समय स्थायी नहीं होता , इसलिए उपयुक्त समय ध्यान रखते हुए यात्रा प्लान करें।

शिशु के बैठने के व्यवस्था - Baby Seating Arrangement

हवाई जहाज में शिशु (Infant Travel In Flight) यानि दो साल से कम उम्र के बच्चे को अलग से सीट नहीं दी जाती , वे अपने माता या पिता की गोद में ही बैठते हैं। अगर आप लम्बी यात्रा पर जा रहे हैं ,तब कोशिश करें की पहले से ही बच्चे के लिए ट्रेवल कॉट या पालना बुक कर लें। याद रखें ये सुविधा प्रत्येक एयरलाइन नहीं देती और हर रूट पर उपलब्ध नहीं हो सकती।
अगर आप अपने बच्चे के कारसीट या चाइल्ड रेफ़्रेन सिस्टम( CRS) को साथ ले जाना चाहते हैं ,तो अपनी एयरलाइन से इसके बारें में आज्ञा लेना न भूलें। कुछ एयरलाइन ऐसा करना स्वीकार नहीं करतीं। अगर ये साथ ले जाना स्वीकार्य है तो सुनिश्चित करें ये संघीय विमानन प्रशासन के अनुरूप हो।
ऊपर लिखी गयी बातों को ध्यान में रखकर आप अपने शिशु के साथ हवाई जहाज से यात्रा आसानी से कर सकते हैं।


Related Articles :

शिशु की बाहर की सैर कराना क्यों जरूरी होता है ? - बच्चों को घर से बाहर सार्वजनिक स्थानों पर घुमाने के अपना फायदे हैं, यह उसकी ग्रोथ के लिए बहुत जरूरी है। इस आर्टिकल में समस्त जानकारी विस्तार से पढ़ें।

प्रेगनेंसी में घूमना-फिरना बच्चे पर क्या असर डालता है ? - प्रेगनेंसी यानि 9 महीने एक लंबा वक़्त होता है, ऐसे में ट्रैवेलिंग से बचना क्या वाकई जरूरी है, जानिए क्या कहते हैं विशेषज्ञ?

प्रेगनेसी में हवाई सफ़र के नियम क्या हैं ? - गर्भावस्था में हवाई यात्रा थोड़ी असुविधाजनक हो सकती है, जानिए एयरलाइंस कौन-कौन सी सुविधाएं दे सकती हैं?

बैनर छवि: tripsavvy

#babyonboard
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!