क्या है आपके नवजात शिशु की नाक, मुंह और छाती के लिए एक आसान मार्गदर्शिका ?

cover-image
क्या है आपके नवजात शिशु की नाक, मुंह और छाती के लिए एक आसान मार्गदर्शिका ?

इस लेख में जानिए अपने नवजात शिशु की नाक, मुंह और छाती के लिए एक आसान मार्गदर्शिका।

अगर एक नवजात शिशु को छींक, खांसी या बलगम जैसी समस्याएं हों तो, जरूरी नहीं कि उसे सर्दी लगी हो या उसका पाचन खराब हो। शिशु की नाक, मुहं और छाती की अंदरूनी सरंचना बहुत जटिल और नाजुक होती है, ऐसे में कोई समस्या किस कारण से पैदा हो रही है यह जानना बहुत जरूरी है। हमारे विशेषज्ञ, डॉ आर.के. आनंद अपनी पुस्तक - ए गाइड टू चाइल्डकेयर में इस विषय में काफी कुछ बता चुके हैं। इसी किताब के आधार पर तैयार किए गए इस आर्टिकल में हमारा प्रयास है आपको नवजात शिशु की नाक, मुहं और छाती से जुड़ी समस्याओं के बारे में बताया जाए।


चलिए, सबसे पहले जानते हैं, बच्चे की बच्चे की नाक, मुंह और छाती में बदलाव के कारण क्या होते हैं?

एक बच्चे की नाक, मुंह और छाती में बदलाव

नवजात शिशु, गर्भ से बाहर आकर एक नये वातावरण से परिचित होते हैं, इसलिए सामंजस्य बैठाने में उन्हें कुछ समय लग सकता है। इस दौरान उनकी नाक, मुहं और छाती में कुछ बदलाव नजर आ सकते हैं जैसे -

1. नाक में परिवर्तन

कुछ सामान्य शिशुओं की नाक से थोड़ा चिपचिपा स्राव होता है। यह बच्चे की बंद नाक (Baby's Blocked Nose) का कारण भी बन सकता है। यह सांस के साथ हस्तक्षेप नहीं करता है और 2 से 3 महीने के बाद खत्म हो जाता है। नवजात शिशुओं में छींक आना सामान्य है और इसलिए कभी-कभार खांसी होती है। बच्चे नाक और मुंह के माध्यम से दूध उल्टी भी कर सकते हैं, इसलिए उन्हें दूध पिलाकर कंधे से लगाकर थपथपाना चाहिए, ताकि गैस, बर्पिंग के द्वारा बाहर निकल आए।

2. मुंह में परिवर्तन

आपका बच्चा दांत के साथ पैदा हो सकता है। इसे आम तौर पर सामान्य छोड़ दिया जाना चाहिए। इस बात की चिंता न करें कि शिशु स्तनपान करते समय आपको काटेगा या आपको चोट पहुँचाएगा।

3. टंग टाई या जीभ से जुड़ी समस्या

बच्चों का बार बार जीभ निकालना या जीभ में परेशानी का लक्षण दिखाना, जन्म जात समस्या टंग टाई के कारण हो सकता है। कुछ ऊतक जीभ के नीचे के हिस्से को मुंह के तल से जोड़ते है, जब यह अधिक भाग को जोड़ते हैं तो टंग टाई की समस्या पैदा हो जाती है। यह जीभ की गति को रोकता है, शिशु को बोलने,खाने और स्तनपान करने में दिक्कत हो सकती है। यह स्थिति अक्सर अपने आप हल हो जाती है। यदि नहीं, तो इसका इलाज सर्जरी से किया जा सकता है। यदि बच्चा अपनी जीभ से मुंह की छत को छू सकता है, तो सर्जरी की आवश्यकता नहीं होती है।

यदि भी सर्जरी की आवश्यकता है, तो इसे तब तक स्थगित कर दिया जाना चाहिए जब तक कि बच्चा 3 वर्ष का न हो जाए। बच्चे के बड़े होने पर जीभ बड़ी हो जाती है। बच्चों की जीभ पर एकसमान सफेद कोटिंग सामान्य है। ग्लिसरीन या कपड़े के टुकड़े से जीभ को साफ करने का कोई प्रयास नहीं किया जाना चाहिए।
कुछ शिशुओं में मोटे, होंठों पर छाले हो सकते हैं। ये सामान्य हैं और कुछ हफ्तों के बाद गायब हो जाते हैं।

4. हिचकी आना

नवजात शिशुओं में हिचकी सामान्य है। कुछ शिशुओं के जन्म के पहले सप्ताह में मसूढ़ों या तालू के किनारे के पास म्यूकस सिस्ट (जिसे एपिथेलियल बीड्स भी कहा जाता है) होता है। यह समय के साथ ठीक हो जाता है।

5. खून से सना हुआ उल्टी

कुछ बच्चों को जन्म के बाद खून की उल्टी हो सकती है। यह संभवतः अम्नीओटिक तरल पदार्थ द्वारा पेट में जलन या बच्चे द्वारा माँ के रक्त को निगलने के कारण होता है। रक्तस्राव यदि दोबारा नहीं होता है तो बच्चा सामान्य है। कुछ बच्चे मां के फटे निप्पल से खून निगलते हैं यह भी किसी भी उपचार की आवश्यकता नहीं है। कभी-कभी शिशु में रक्तस्रावी रोग हो सकते है और इसे पहचानने के लिए परीक्षणों की आवश्यकता हो सकती है। यह विटामिन के की कमी के कारण भी हो सकता है।

6. रेगुरगिटशन

कभी-कभी बच्चे का दूध एक बार दूध पिलाने के बाद दही जैसा पदार्थ बन जाता है। इसे रिग्रेशन के रूप में जाना जाता है। यह ज्यादा चिंता का विषय नहीं होना चाहिए। दूध पिलाने के बाद, सुनिश्चित करें कि आप बच्चे को डकार दिलाएं और उसके बाद ही उसे लेटने दें। यदि बच्चा बिना डकार लिए बिना सो गया है, तो उसे अपनी दाहिनी ओर लेटा दें। अगर बच्चा जाग रहा है, तो उसे पेट के बल लिटाया जा सकता है।

7. छाती में परिवर्तन

कई बार 2 या 3 दिन के शिशुओं में सूजे हुए स्तन और दूध से भरे स्तन देखे जा सकते हैं। दूध निकालने या स्तनों की मालिश करने का प्रयास न करें। इस तरह की सलाह का पालन नहीं किए जाने पर गंभीर संक्रमण होसकता है व सर्जरी की जरूरत देखी गई है। यह सूजन कुछ समय बाद अपने आप गायब हो जाती है ।
आपका डॉक्टर छाती के ऊपर दिल की धड़कन सुन सकता है। यह जरूरी नहीं है कि बच्चे को दिल की बीमारी हो। अधिक बड़बड़ाहट कुछ दिनों के भीतर गायब हो सकती है। यदि आवश्यक हो, तो आपका डॉक्टर कुछ परीक्षण करने के लिए कहेगा। एक नवजात शिशु की सांस लेने की दर लगभग 45 श्वास / मिनट होती है। यह प्रत्येक बच्चे में भिन्न हो सकता है। कभी-कभी, दर तेज हो जाती है, उसके बाद धीमी दर होती है। ऐसे बदलाव आमतौर पर सामान्य होते हैं।

तो उम्मीद करते हैं कि अपने बच्चे की परेशानी को समझने में यह जानकारी आपके काम आएगी। बच्चे नाक और मुंह के माध्यम से दूध उल्टी करते हैं या उनकी नाक बंद (baby's blocked nose) होती है तो घबराना नहीं चाहिए। अगर डॉक्टर खुद किसी गंभीर समस्या की जिक्र नहीं करते, तो यह साधारण समस्या हो सकती है जो समय के साथ ठीक हो जाएगी। किसी भी दवा का उपयोग ना करें और डॉक्टर की सलाह के बिना घरेलू उपचार भी नहीं अपनाने चाहिए।

सूचना: बेबीचक्रा अपने वेब साइट और ऐप पर कोई भी लेख सामग्री को पोस्ट करते समय उसकी सटीकता, पूर्णता और सामयिकता का ध्यान रखता है। फिर भी बेबीचक्रा अपने द्वारा या वेब साइट या ऐप पर दी गई किसी भी लेख सामग्री की सटीकता, पूर्णता और सामयिकता की पुष्टि नहीं करता है चाहे वह स्वयं बेबीचक्रा, इसके प्रदाता या वेब साइट या ऐप के उपयोगकर्ता द्वारा ही क्यों न प्रदान की गई हो। किसी भी लेख सामग्री का उपयोग करने पर बेबीचक्रा और उसके लेखक/रचनाकार को उचित श्रेय दिया जाना चाहिए।

Related Articles:

  1. जानिए हेपेटाइटिस ए बीमारी लिवर को कैसे करती हैं खराब - शिशुओं के लिए टीकाकरण, इस जटिल बीमारी से बचने का सबसे सटीक तरीका है, इस लेख में जानिए कैसे अपने बच्चे को हेपेटाइटिस A से बचाया जा सकता है।
  2. इन तरीकों से छुड़ा सकते हैं बच्चे की बोतल से दूध पीने की आदत - बहुत ज्यादा दूध की बोतल का इस्तेमाल बच्चों के स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है। इससे बच्चे की सेहत पर बुरा असर होने लगता है इसलिए बोतल से जल्दी छुटकारा कैसे पाएँ जानिए।
  3. बच्चे की दिमागी शक्ति बढ़ाने के उपाय जानें - केवल इन पांच चीज़ों के जरिए आप अपने बच्चे को सुपर शार्प बना सकते हैं, जानिए ये कैसे मददगार साबित हो सकती हैं
#babychakrahindi #babycare
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!