• Home  /  
  • Learn  /  
  • ब्रेस्टफीडिंग से सेक्स लाइफ हो गई है सुस्त, जानें क्या है वजह
ब्रेस्टफीडिंग से सेक्स लाइफ हो गई है सुस्त, जानें क्या है वजह

ब्रेस्टफीडिंग से सेक्स लाइफ हो गई है सुस्त, जानें क्या है वजह

9 Aug 2022 | 1 min Read

Mona Narang

Author | 175 Articles

डिलीवरी के बाद महिला का शरीर कई सारे बदलावों से गुजरता है। इसका एक मुख्य कारण ब्रेस्टफीडिंग है। इसकी वजह से महिला की सेक्स में रूचि कम होने लगती है, जिसका सीधा असर पार्टनर संग उनके रिश्ते पर पड़ता है। ऐसे में प्रसव के बाद कपल्स को सेक्स लाइफ शुरू करने में देरी हो सकती है। इसके बीच सवाल यह उठता है कि ब्रेस्टफीडिंग से सेक्स लाइफ कैसे प्रभावित होती है? इस आर्टिकल में हम इसी टॉपिक पर चर्चा करने वाले हैं। लेख में विस्तार से जानेंगे कि माँ बनने के बाद महिलाओं की सेक्स के प्रति रूचि कम क्यों हो जाती है।

क्या ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं के लिए सेक्स करना सुरक्षित होता है?

एनसीबीआई पर उपलब्ध एक शोध में दी जानकारी के अनुसार, स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सेक्स करना पूरी तरह सुरक्षित होता है। न्यू मॉम्स बेझिझक पार्टनर संग संबंध बना सकती हैं। कुछ महिलाओं को इसे लेकर यह संदेह होता है कि सेक्स करने से ब्रेस्ट मिल्क की गुणवत्ता पर असर होगा। लेकिन ऐसा नहीं है। शोध में यह भी बताया गया है कि सेक्स करने से ब्रेस्ट मिल्क की आपूर्ति व गुणवत्ता किसी तरह से प्रभावित नहीं होते हैं। ऐसे में यह कहना गलत नहीं होगा कि स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सेक्स करना सुरक्षित होता है। 

महिलाओं में ब्रेस्टफीडिंग से सेक्स लाइफ कैसे प्रभावित होती है?

ब्रेस्टफीडिंग से सेक्स लाइफ कैसे प्रभावित होती है
ब्रेस्टफीडिंग और सेक्स लाइफ/ चित्र स्रोत: फ्रीपिक

महिलाओं में ब्रेस्टफीडिंग कराने से सेक्स लाइफ पर कैसे असर पड़ता है, इसके पीछे कई सारे कारण हैं। लेख में आगे इसके बारे में जानकारी दे रहे हैं। 

1. वजायनल ड्राइनेस

ब्रेस्टफीडिंग कराने से महिला के शरीर में एस्ट्रोजन का स्तर काफी कम हो जाता है। एस्ट्रोजन वजायना टिश्यू को नम और स्वस्थ रखने के लिए महत्वपूर्ण हाता है। यही वजह है स्तनपान कराने वाली कई महिलाएं वजायनल ड्राइनेस का अनुभव करती हैं। इसके चलते उनके लिए सेक्स करना पेनफुल और अनकंफर्टेबल हो जाता है।

2. लो सेक्स ड्राइव

प्रसव के बाद महिला के शरीर में हार्मोनल के स्तर में बड़े बदलाव होते हैं। प्रोलैक्टिन का स्तर बढ़ने और एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरोन के स्तर में गिरावट होने से महिला की कामोच्छा में कमी हो सकती है। हो सकता है महिला की सेक्स में उतनी दिलचस्पी न हो, जितनी बच्चे के होने से पहले होती थी। इसके अलावा, नवजात शिशु की देखरेख के चलते नींद पूरी न होना, स्ट्रेस आदि भी महिला की सेक्स ड्राइव को प्रभावित कर सकते हैं।  

3. ब्रेस्ट एंड निप्पल पेन

माँ को फीड करवाने व बच्चे को फीड करने में कंफर्टेबल होने में समय लग सकता है। शुरुआत के दिनों में माँ को असहज महसूस हो सकता है। ब्रेस्ट में भारीपन, ब्लॉक्ड दूध की नलिकाएं, निप्पल ब्लिस्टर्स, निप्पल्स में इंफेक्शन आदि के कारण से ब्रेस्ट को टच करने से पेन हो सकता है। ऐसे में ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं में सेक्स में कम रुचि होने का एक कारण ब्रेस्ट का संवेदनशील होना हो सकता है।

4. थकान

शिशु को हर घंटे में फीड कराना होता है। ऐसे में माँ को आराम करने का पर्याप्त समय नहीं मिल पाता है। इस वजह से कुछ महिलाएं सेक्स के लिए काफी थकान महसूस करती हैं। इस तरह स्तनपान कराने वाली महिलाओं में यौन इच्छा की कमी का एक कारण थकान हो सकता है।

5. पोस्टपार्टम डिप्रेशन

पोस्टपार्टम डिप्रेशन यानी डिलीवरी के बाद तनाव। प्रसव के बाद कुछ महिलाएं हार्मोंस डिसबैलेंस, शिशु की देखभाल आदि के कारण तनाव, थकान और एंग्जायटी की शिकार हो जाती हैं। इसका असर उनके मानसिक स्वास्थ्य पर भी पड़ता है, जिस वजह से महिलाओं की सेक्स ड्राइव प्रभावित हो सकती है।

स्तनपान कराने वाली महिलाओं के लिए सेक्स लाइफ को स्पाइसी बनाने के लिए आइडियाज

लेख में ऊपर आपने स्तनपान कराने वाली महिलाओं की सेक्स ड्राइव कैसे प्रभावित होती है, इसके बारे में जाना। ऐसा होना नॉर्मल है। इसे लेकर परेशान होने की जरूरत नहीं है। कुछ बातों को ध्यान में रखकर आप अपनी सेक्स लाइफ को पहले की तरह एंजॉय कर सकती हैं। 

1. अपने आप को थोड़ा समय दें- शरीर में होने वाले हार्मोनल बदलाव कुछ समय के बाद नॉर्मल हो जाएंगे। खासतौर पर जब बेबी फीड करना कम कर देगा। शरीर में प्रोलैक्टीन का स्तर कम होने के साथ एस्ट्रोजन और टेस्टोस्टेरोन का स्तर बढ़ता है। इससे सेक्स ड्राइव और वजायनल लुब्रिकेशन वापस से नॉर्मल हो जाएंगे।

2. पार्टनर से बात करें- सेक्स ड्राइव में कमी को लेकर अपनी फीलिंग्स के बारे में पार्टनर से खुलकर बात करें। 

3. लुब्रिकेंट का इस्तेमाल करें- ब्रेस्टफीडिंग कराने वाली महिलाओं में वजायनल ड्राइनेस की वजह से संबंध बनाने में परेशानी होती है। ऐसे में नेचुरल ल्यूब के तौर पर ओर्गेनिक कोकोनट ऑयल का इस्तेमाल कर सेक्स को कंफर्टेबल बना सकती हैं।

4. पर्याप्त आराम करें- बच्चे की देखभाल व घर के कामों में पार्टनर, परिवार के लोगों व दोस्तों से मदद लें। इससे आपको आराम करने का व नींद पूरी करने का समय मिलेगा।

5. एक्सपर्ट से बात करें- सेक्स में कम रुची को लेकर आप एक्सपर्ट से बात कर सकती हैं।

तो अब आप जान गए होंगे कि ब्रेस्टफीडिंग और सेक्स लाइफ के बीच क्या संबंध है। ऐसे में खुद में आ रहे बदलावों को लेकर किसी तरह का स्ट्रेस न लें। लेख में इसके ब्रेस्टफीड कराने वाली महिलाओं के लिए सेक्स लाइफ में जान भरने के लिए कुछ टिप्स भी दिए हैं। इन्हें फॉलों कर अपनी लव लाइफ को बनाए इंटरेस्टिंग।

संबंधित लेख-

ब्रेस्टफीडिंग और सेक्स, 5 आश्चर्यजनक फैक्ट्स

जल्दी प्रेग्नेंट होने के लिए बेस्ट हैं ये सेक्स पोजीशन्स

प्रेग्नेंसी के दौरान सेक्स ड्राइव में क्या बदलाव आता है, विस्तार से जानें

11 प्रेग्नेंसी में सेक्स करने के फायदे

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop