गर्भ में बच्चे का विकास न होने का कारण

गर्भ में बच्चे का विकास न होने का कारण

29 Aug 2022 | 1 min Read

Mousumi Dutta

Author | 98 Articles

माँ के जीवन में गर्भावस्था एक ऐसी अवस्था है जब इस दौर का हर एक पल इम्तिहान का पल होता है। गर्भावस्था के दौरान हमेशा कुछ न कुछ जटिलता होने की आशंका रहती है। प्रेगनेंसी कॉम्प्लिकेशन में गर्भ में बच्चे का विकास न होने का कारण भी एक समस्या है। ऐसे ही समस्याओं के संकेतों को समझना और तुरंत एहतियात बरतने पर कुछ भी समस्या होने पर समय रहते संभाला जा सकता है।

गर्भ में बच्चे का विकास न होने का कारण यानि भ्रूण वृद्धि प्रतिबंध क्या होता है : What is Fetal growth restriction (FGR) 

भ्रूण वृद्धि प्रतिबंध (FGR) एक ऐसी स्थिति है जिसमें अजन्मा बच्चा (भ्रूण) गर्भावस्था के हफ्तों (गर्भकालीन आयु या जेस्टेशनल एज) में जितना विकसित होना चाहिए उससे छोटा होता है। इसे अक्सर 10वें प्रतिशतक से कम अनुमानित वजन के रूप में वर्णित किया जाता है। इसका मतलब है कि एक ही जेस्टेशनल एज के 10 में से 9 बच्चों का वजन जितना होता है, भ्रूण का वजन उससे कम होता है। FGR (Baby ki growth na hone ki waja in Hindi)वाले नवजात शिशुओं का वजन “गर्भावधि उम्र के हिसाब से कम” होता है।

FGR गर्भावस्था के दौरान किसी भी समय शुरू हो सकता है। इस कंडिशन में बच्चे का विकास ठीक से नहीं होता है। FGR के कारण भ्रूण के आकार और अंगों, ऊतकों और कोशिकाओं का विकास प्रभावित होता है। इससे कई समस्याएं हो सकती हैं। लेकिन बहुत से नवजात शिशु जो छोटे होते हैं वे आकार में छोटे ही होते हैं। हो सकता है कि उन्हें भविष्य में कोई परेशानी न हो।

गर्भ में शिशु के विकास में बाधा के क्या कारण है? । What causes FGR or Intrauterine growth restriction (IUGR) in Hindi

प्रेगनेंसी में बेबी की ग्रोथ न होना या FGR के खतरे के पीछे कई कारक या फैक्टर्स की भूमिका होती है। इनमें प्लेसेंटा या गर्भनाल (Umbilical cord) की समस्याएं शामिल हैं। प्लेसेंटा अच्छी तरह से अटैच नहीं हो पाता है। या गर्भनाल से जो रक्त का प्रवाह होता है, वह सीमित हो सकता है। मां और बच्चे दोनों में कारक FGR का कारण बन सकते हैं।

माँ में जो कारक एफजीआर यानि बेबी की ग्रोथ न होने की वजह इन हिंदी का कारण बन सकते हैं उनमें ये शामिल हैं:

  • हाई ब्लड प्रेशर या दूसरे हृदय और रक्त वाहिका रोग
  • मधुमेह या डायबिटीज
  • बहुत कम लाल रक्त कोशिकाएं (एनीमिया)
  • लंबे समय तक फेफड़े या गुर्दे की स्थिति
  • ऑटो इम्यून डिजीज जैसे ल्यूपस
  • रूबेला, साइटोमेगालोवायरस, टोक्सोप्लाज्मोसिस और सिफलिस जैसे संक्रमण
  • किडनी या लंग डिजीज
  • मालन्यूट्रिशन या एनीमिया
  • सिकल सेल एनीमिया (असामान्य हीमोग्लोबिन)
  • बहुत कम वजन
  • बहुत ज्यादा वजन होना (मोटापा)
  • खराब पोषण या वजन बढ़ना
  • शराब या नशीली दवाओं का सेवन
  • धूम्रपान करना

बच्चे में कारक जो प्रेगनेंसी में बेबी की ग्रोथ न होना यानि FGR का कारण बन सकते हैं, उनमें शामिल है-

  • जुड़वां या तीन में से एक होने के नाते
  • संक्रमणों
  • जन्म दोष, जैसे हृदय दोष
  • जीन या गुणसूत्र के साथ समस्या

गर्भ में बच्चे का विकास रुकने के लक्षण  क्या है। FGR symptoms of Hindi

बेबी की ग्रोथ न होने की वजह या एफजीआर का मुख्य लक्षण जेस्टेशेनल एज के अनुसार भ्रूण का विकास कम होना। विशेष रूप से, बच्चे का अनुमानित वजन 10 प्रतिशत से कम हो सकता है – या उसी गर्भकालीन उम्र के 90% बच्चों से कम होता है।

FGR के कारण के आधार पर (पेट में बच्चा खराब होने के लक्षण), यानि प्रेगनेंसी में बेबी की ग्रोथ न होना का मतलब है बच्चा पूरी तरह से छोटा हो सकता है या कुपोषित दिख सकता है। वे पतले और पीले हो सकते हैं और उनकी ढीली, ड्राई स्किन हो सकती है। गर्भनाल अक्सर मोटी और चमकदार होने के बजाय पतली और सुस्त होती है।

  • जन्म के समय कम वजन
  • लो ब्लड शुगर  का स्तर
  • कम शरीर का तापमान
  • लाल रक्त कोशिकाओं का उच्च स्तर
  • संक्रमण से लड़ने में परेशानी
गर्भ में बच्चे का विकास न होने का कारण/ चित्र स्रोत: पिक्सेल

गर्भ में बच्चे का विकास न होने का कारण- जानें उपचार – How is FGR Diagnosed?

फंडल हाइट : फंडल हाइट की जांच करने के लिए, डॉक्टर आपकी प्यूबिक बोन के ऊपर से लेकर आपके गर्भाशय (फंडस) के ऊपर तक नापता है। सेंटीमीटर (सेमी) में मापी गई मौलिक ऊंचाई लगभग 20वें सप्ताह के बाद गर्भावस्था के हफ्तों की संख्या के बराबर है। उदाहरण के लिए, 24 सप्ताह के गर्भ में, आपकी फंडल ऊंचाई 24 सेमी के करीब होनी चाहिए। अगर फंडल हाइट उम्मीद से कम है, तो इसका मतलब FGR हो सकता है।

भ्रूण अल्ट्रासाउंड-अल्ट्रासाउंड के साथ भ्रूण के वजन का अनुमान लगाना एफजीआर का पता लगाने का सबसे अच्छा तरीका है। गर्भ में बच्चे की तस्वीरें बनाने के लिए अल्ट्रासाउंड ध्वनि तरंगों का उपयोग करता है। ध्वनि तरंगें आपको या शिशु को नुकसान नहीं पहुंचाते हैं। आपका स्वास्थ्य सेवा प्रदाता या तकनीशियन बच्चे को मापने के लिए छवियों का उपयोग करेगा। FGR का निदान यानि डायग्नोसिस एक निश्चित गर्भकालीन आयु में वास्तविक और अपेक्षित माप के बीच के अंतर पर आधारित होता है।

डॉपलर अल्ट्रासाउंड– FGR के निदान के लिए आपके पास इस विशेष प्रकार का अल्ट्रासाउंड भी हो सकता है। डॉपलर अल्ट्रासाउंड प्लेसेंटा और गर्भनाल के माध्यम से बच्चे को रक्त के प्रवाह या ब्लड फ्लो  की जाँच करता है। रक्त प्रवाह में कमी का मतलब यह हो सकता है कि आपके बच्चे को FGR (पेट में बच्चा खराब होने के लक्षण) है।

गर्भ में बच्चे के विकास न होने का कारण – कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां। FGR necessary prevention tips in Hindi

  • आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि माँ के पूरी तरह से स्वस्थ होने पर भी FGR या बेबी की ग्रोथ न होने की वजह इन हिंदी बन सकती है। कुछ बातों का ध्यान रखने से माँ FGR (Baby ki growth na hone ki waja in hindi) के जोखिम को कम करने और स्वस्थ गर्भावस्था और बच्चे की बाधाओं को बढ़ाने के लिए कर सकती हैं।
  • अपनी सभी प्रीनेटल अप्वाइंटमेंट्स को कभी मिस न करें। संभावित समस्याओं का जल्द पता लगाने से आप उनका जल्दी इलाज कर सकते हैं।
  • अपने बच्चे की एक्टिविटियों का ध्यान रखें। अगर बच्चा बार-बार हिलता-डुलना बंद कर देता है, उसे समस्या हो सकती है। यदि आप अपने बच्चे की हलचल में बदलाव देखती हैं, तो अपने डॉक्टर को बुलाएँ।
  • अपनी दवाओं की जाँच करें। किसी दूसरी बीमारी की दवा अगर माँ ले रही है, तो उसके कारण उसके अजन्मे बच्चे को समस्या हो सकती है।
  • हेल्दी खाना खाएं। स्वस्थ भोजन और पर्याप्त कैलोरी आपके बच्चे को अच्छी तरह से पोषित रखने में मदद करती है।
  • आराम पर्याप्त करें। आराम आपको बेहतर महसूस करने में मदद करेगा और यह आपके बच्चे को बढ़ने में भी मदद कर सकता है। हर रात 8 घंटे (या अधिक) सोने की कोशिश करें। दोपहर में एक या दो घंटे का आराम भी आपके लिए अच्छा होगा।
  • स्वस्थ जीवन शैली की आदतों का अभ्यास करें। यदि आप शराब पीते हैं, ड्रग्स लेते हैं, या धूम्रपान करते हैं, तो अपने बच्चे के स्वास्थ्य के लिए बंद कर दें।

 निष्कर्ष: Conclusions

अब तक के चर्चा से आप समझ ही गए होंगे कि गर्भ में बच्चे का विकास न होने का कारण, पेट में बच्चा खराब होने के लक्षण, बचाव क्या होता हैइसके अलावा बेबी की ग्रोथ न होने की वजह इन हिंदी से बचाव के लिए क्या-क्या करना चाहिए जानने के लिए भारत का नंबर वन प्रेगनेंसी पैरेटिंग एप बेबीचक्रा से जुड़े रहें और सब्सक्राइब करें।

संबंधित लेख:

प्रेगनेंसी में पेट में लकीर का मतलब

5 Month Pregnancy In Hindi-लक्षण, शिशु का विकास,शरीर में होने वाले बदलाव और आहार

अपूर्ण गर्भपात क्या है?

नौवें महीने में नीचे खिसक गया है शिशु, तो कभी भी हो सकता है लेबर पेन

like

0

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop