38 सप्ताह की गर्भावस्था है?

38 सप्ताह की गर्भावस्था है?

29 Aug 2022 | 1 min Read

Mousumi Dutta

Author | 94 Articles

38 सप्ताह की गर्भावस्था में (38 weeks pregnancy in Hindi) में आपका स्वागत है। अब आपकी प्रेगनेंसी अपने आखिरी चरण में आ चुकी है। किसी भी समय आपकी जान आपके हाथों में खेल रहा/रही होगी। लेकिन इस खुशी के पलों के बीच में आपके मन में हजारों सवाल उठ रहे होंगे। हम जवाबों के माध्यम से बताने की कोशिश करेंगे कि आपकी, आपके बच्चे की स्थिति 38 सप्ताह की गर्भावस्था में क्या होगी। 

38 सप्ताह की गर्भावस्था में भ्रूण विकास । Fetal development at 38 weeks pregnancy in Hindi 

आपकी नन्हीं-सी जान अब आपके पास आने के लिए बिल्कुल तैयार है। उसका/उसकी वजन लगभग 3.2 किलोग्राम होगा और सिर से नीचे तक लगभग 35 सेमी का होगा। उसके शरीर पर अभी भी कुछ लानुगो – यानि छोटे-छोटे बाल – हो सकते हैं, लेकिन यह ज्यादातर गायब हो चुके होंगे। वे शायद वर्निक्स से ढके होंगे, जो एक सफेद, मलाईदार फिल्म त्वचा को एमनियोटिक द्रव से बचा रही होगी।

आपके बच्चे की आंत के अंदर मेकोनियम कभी-कभी प्रसव के दौरान निकल भी सकता है। यदि ऐसा होता है, तो यह एमनियोटिक द्रव हरा हो जाएगा। तब आपके बच्चे को मॉनिटर करने की आवश्यकता होगी, क्योंकि यह एक संकेत हो सकता है कि वह संकट में हैं।

38 सप्ताह की गर्भावस्था में माँ का शारीरिक परिवर्तन। Mother’s physical changes at 38 weeks pregnancy in Hindi.

हालाँकि, आप प्रसव के करीब हैं, फिर भी कुछ ऐसे लक्षण होंगे जिनसे आप 38 सप्ताह की गर्भवती हैं, को महसूस होंगी-

  • हार्ट बर्न, मतली, और अपच
  • कब्ज
  • मूड स्विंग
  • लिकी ब्रेस्ट
  • पेल्विक प्रेशर
  • हल्का पीठ दर्द
  • जल्दी पेशाब आना
  • ब्रेक्सटन-हिक्स संकुचन
  • एडिमा (सूजन), विशेष रूप से पैरों और टखनों में
  • वजाइनल डिस्चार्ज में बढ़ोत्तरी
  • लगभग 38 सप्ताह की गर्भवती होने पर, आप अपना म्यूकस प्लग खो सकती हैं – म्यूकस का ग्लोब आपके गर्भाशय ग्रीवा को संक्रमण से बचाता है।

आमतौर पर लोग सोचते हैं कि इसका मतलब है कि अब आप किसी भी दिन प्रसव पीड़ा में जाने वाली हैं, लेकिन सच्चाई यह है कि प्रसव शुरू होने से कई सप्ताह पहले आपका म्यूकस प्लग बाहर निकल सकता है।

38 सप्ताह की गर्भावस्था/चित्र स्रोत: फ्रीपिक

38 सप्ताह की गर्भावस्था में क्या-क्या जानना जरूरी है। Things to know about 38 weeks pregnancy in Hindi.

इस समय किसी भी समय लेबर पेन हो सकता है। जिस क्षण का आप बेसब्री से इंतजार कर रही थी। इसलिए इसके बारे में थोड़ी जानकारी ले लें-

  • नियमित, मेंट्रूअल कॉन्ट्रैक्शन महसूस होगा , जो लेटने पर भी नहीं जाएगा।
  • संकुचन जो अधिक तीव्र हो जाते हैं – और फिर समय के साथ कम भी हो सकते हैं।
  • एमनियोटिक थैली का टूटना भी शुरू हो सकता है।
  • म्यूकस प्लग को नुकसान पहुँच सकता है।
  • दस्त।
  • आपके श्रोणि में बच्चे के सिर का जुड़ाव, जिसे कभी-कभी लाइटनिंग या “ड्रॉपिंग” कहा जाता है।

अभी भी सुनिश्चित नहीं हैं कि क्या आप वास्तव में लेबर पेन की प्रक्रिया में जा रहे हैं? वैसे भी अपने डॉक्टर को बिना देर किए संपर्क करें। अधिकांश गर्भवती महिलाएं- विशेष रूप से जो पहली बार प्रेगनेंट हुई हैं को कम से कम एक झूठा अलार्म होगा, इसलिए शर्मिंदा न हों।

38 सप्ताह की गर्भावस्था में क्या करें। What to do during 38 weeks pregnancy in Hindi.

आप डिलीवरी के अंतिम चरण में है, इसलिए इन पलों को दिल खोलकर जी लें। क्योंकि इसके बाद बड़े दायित्व को लेने वाली है-

  • मनपंसद खाना बनाएं।
  • आपने प्रीनेटल क्लासेस में जो भी सीखा है उसको याद कर लें। ब्रेस्टफीडिंग का तरीका भी जान लें।
  • अपने दोस्तों या परिवार के लोगों के साथ मिल लें।
  • खुद को पैंपर करें। जो मन को अच्छा लगे वही करें।
  • अपने हॉस्पिटल बैग को अच्छी तरह से पैक कर लें।

आपकी गर्भावस्था के लिए सुझाव। Suggestions for 38 weeks pregnancy in Hindi.

इस अवस्था में सिर्फ आपको अपना ख्याल रखना होगा। हेल्दी खाना खाना होगा, खुश रहना होगा, अंतिम चरण की सारी तैयारियाँ कर लेनी होंगी आदि। साथ ही इस समय किसी अपने को साथ रखना, सबसे जरूरी काम होता है।

निष्कर्ष । Conclusion

 जाहिर है 38 सप्ताह की गर्भावस्था में सभी गर्भवती महिलाओं के मन में बहुत सारे सवाल उठते हैं, इस समय सभी प्रेगनेंट महिलाएं  योग या पेरिनेटल क्लासेस में दूसरे प्रेगनेंट वुमन्स से बातचीत करके अपनी बातें और समस्याओं को उनसे साझा करके आपका दिल भी हल्का करें और जरूरी जानकारियाँ भी फ्री में पाएं।

अक्सर पूछे जाने वाले सवाल – FAQ’s

38 सप्ताह की गर्भवती होने पर मुझे क्या महसूस होना चाहिए? 

इस दौर में बहुत सारे लक्षण महसूस हो सकते है-

  • एमनियोटिक थैली का टूटना (यानी, आपका पानी टूट जाता है)
  • चक्कर आना, गंभीर सिरदर्द, या कम दिखना
  • ब्लीडिंग
  • बुखार
  • पेशाब करने में परेशानी या दर्दनाक पेशाब
  • उल्टी या गंभीर पेट में ऐंठन
  • आपके हाथ-पांव या चेहरे में अचानक सूजन
  • भ्रूण की गति में उल्लेखनीय कमी या अनुपस्थिति

क्या डिलीवरी के लिए 38 वीक सेफ है?

हाँ, दो हफ्ता डिलीवरी के लिए अब भी रहता है, लेकिन अगर डिलीवरी हो गई तो बेबी अंडरवेट हो सकता है और विशेष रूप से ख्याल रखने की जरूरत होती है।

38 वीक प्रेगनेंट कितने महीने का होता है?

38 वीक 9 महीने के शुरूआत के हफ्तों में आता है।

प्रेगनेंसी के लास्ट वीक में क्या होता है? 

प्रेगनेंसी के लास्ट वीक में बहुत सारी परेशानियाँ होती है-

  • नियमित, मेंट्रूअल कॉन्ट्रैक्शन महसूस होगा , जो लेटने पर भी नहीं जाएगा।
  • संकुचन जो अधिक तीव्र हो जाते हैं – और फिर समय के साथ कम हो जाता है।
  • एमनियोटिक थैली का टूटना भी शुरू हो सकता है।
  • म्यूकस प्लग को नुकसान पहुँच सकता है।
  • दस्त।

लेबर पेन कब शुरू होता है?

37 वें हफ्ते से 42 हफ्ते के बीच लेबर पेन शुरू होता है।

38 सप्ताह में गर्भ में बच्चे क्यों मर जाते हैं? 

गर्भनाल संबंधी समस्या या स्टिबर्थ के कारण बच्चे की मृत्यु हो सकती है।

संबंधित लेख:

5 Month Pregnancy In Hindi-लक्षण, शिशु का विकास,शरीर में होने वाले बदलाव और आहार

नौवें महीने में नीचे खिसक गया है शिशु, तो कभी भी हो सकता है लेबर पेन

प्रेगनेंसी में पेट में लकीर का मतलब

अपूर्ण गर्भपात क्या है?

गर्भ में बच्चे का विकास न होने का कारण

डबल मार्कर टेस्ट क्या है ?

गर्भ में बच्चे का विकास न होने का कारण

25 सप्ताह की गर्भावस्था है?

34 सप्ताह की गर्भावस्था है?

like

17

Like

bookmark

0

Saves

whatsapp-logo

0

Shares

A

gallery
send-btn
ovulation calculator
home iconHomecommunity iconCOMMUNITY
stories iconStoriesshop icon Shop