क्या आप जानना चाहते हैं की सी- सेक्शन आपकी सेक्स लाइफ पर क्या असर डालता है ?

cover-image
क्या आप जानना चाहते हैं की सी- सेक्शन आपकी सेक्स लाइफ पर क्या असर डालता है ?

यदि आपकी सिजेरियन डिलीवरी हुई है और अभी आप रिकवरी फेज़ में हो, तो थोड़ा रोमांटिक होना सही है या नहीं यह सवाल आपके मन में हो सकता है। कमर दर्द और टांको में हल्का खिंचाव महसूस करते समय यह ख्याल आना भी लाजिमी है कि आप दोबारा कब सेक्स कर पाएंगे और यह कैसा महसूस होगा। कई लोग ये मानते हैं सिजेरियन डिलीवरी होने का मतलब है कि आपको यौन गतिविधि को फिर से शुरू करने में कम समस्या होगी क्योंकि योनि क्षेत्र में उतना आघात नहीं पहुंचा है लेकिन असल में ऐसा नहीं होता है। सिजेरियन डिलीवरी के बाद भी नॉर्मल सेक्स लाइफ को वापस पाने में भी समय लगता है। सी- सेक्शन के बाद सेक्स में आने वाली परेशानियों और इससे जुड़ी महत्वपूर्ण बातों का जिक्र हम यहाँ करने वाले हैं, चलिए जानते हैं कि सी- सेक्शन के बाद सेक्स कब किया जा सकता है -

सिजेरियन के बाद संभोग कब किया जा सकता है?

जब सिजेरियन डिलीवरी के बाद यौन गतिविधि पर वापस लौटने की बात आती है, तो कोई भी एक टाइम सभी महिलाओं पर फिट नहीं होता है, लेकिन ज्यादातर महिलाएं संभोग शुरू करने से पहले चार से छह सप्ताह का इन्तजार करना सही मानती हैं।

अगर आपको सिजेरियन सेक्शन के बाद थोड़ा कम रक्तस्राव होता है , तो आपकी गर्भाशय ग्रीवा(सर्विक्स) को पूरी तरह से बंद होने में लगभग छह सप्ताह लगेंगे। कुछ महिलाएं दूसरों की तुलना में जल्द ही संभोग फिर से शुरू करने के लिए तैयार महसूस कर सकती हैं, लेकिन आपको अपने प्रसूति रोग विशेषज्ञ से एक बार सलाह ले लेनी चाहिए और तभी सेक्स करना चाहिए और जब आप सहज महसूस करें।

यहां बताया गया है कि आपकी सिजेरियन डिलीवरी रिकवरी और प्रसव के बाद सेक्स कैसा किया जा सकता है।

सिजेरियन के बाद संभोग के दौरान क्या अपेक्षा करें

अक्सर डॉक्टर ये कहते हैं कि सी-सेक्शन के बाद यौन गतिविधि करना सुरक्षित है, इसके बावजूद कई महिलाओं को जटिलताओं के जोखिम को कम करने के लिए कुछ सावधानियां बरतनी चाहिए।

बच्चे को सी-सेक्शन से जन्म देने बाद टांको वाली जगह के आसपास कुछ दर्द और सूजन हो सकती है और आसपास की त्वचा में कसाव या खिंचाव महसूस हो सकता है। शुरुआत में टाँके कमजोर होते हैं, और इनके टूटने और त्वचा के फटने का डर रहता है। इसलिए सेक्स से बचना आवश्यक है जो इस हिस्से पर जोर,दबाव या खिंचाव डालती है। बेहतर यही होगा कि सी-सेक्शन के बाद भारी चीज उठाने से बचें।

कई मामलों में सी-सेक्शन के बाद डॉक्टर सर्जिकल स्टेपल को हटा सकता है, लेकिन फिर भी हफ्तों के लिए पेट नाजुक, दर्दपूर्ण और कोमल रहेगा। गर्भाशय ग्रीवा को ठीक होने और अपने नियमित आकार में वापस आने के लिए भी समय चाहिए। इसलिए संभोग के लिए 6 हफ्तों इन्तजार करना सही माना जाता है।

संभोग मुद्राएं जिनसे आपको बचना चाहिए

सी-सेक्शन डिलीवरी के बाद, ऐसी पोजीशन खोजना मुश्किल हो सकता है जो आपके लिए परफेक्ट हो। क्योंकि सभी महिलाएं अलग तरह से सुविधा महसूस करती हैं और इसकी कोई एक रूल बुक नहीं है जो सबके लिए काम करे। हाँ अगर आपको किसी विशेष पोजीशन में कोई असुविधा महसूस हो तो उसे तुरंत बदल दें।

उन पोजीशन से बचें, जो आपके सी-सेक्शन पर दबाव डालती हैं या खिंचाव महसूस कराती हैं। हालांकि यह सच है कि गर्भावस्था के बाद सेक्स के दौरान दर्द होना आम है, कोई भी पोजीशन जो उस दर्द को बढ़ाती है, वह बेशक इस्तेमाल नहीं करनी चाहिए।

सी-सेक्शन के बाद कुछ महीनों के लिए ऐसी पोजीशन से बचें जिसमें पुरुष साथी आपके ऊपर रहे जैसे कि मिशनरी पोज। यह आपके आपके सी-सेक्शन पर बहुत अधिक दबाव डालते हैं। जब तक आपके टाँके पूरी तरह से ठीक नहीं हो जाते, तब तक डॉगी स्टाइल सेक्स से बचें, क्योंकि यह कोर और पेल्विक एरिया पर दबाव डालता है।

सी-सेक्शन के बाद सम्भोग से जुड़े टिप्स

प्रेगनेंसी और लेबर महिला शरीर को काफी बदल देता है, लेकिन आपको याद रखना चाहिए कि बच्चे का जन्म होना एक सामान्य प्रक्रिया है। सिजेरियन प्रसव के बाद पूरी तरह ठीक होने की कोई पूर्व निर्धारित समयरेखा नहीं हैं और आपका शरीर जन्म देने से पहले जो कुछ भी था वो वापस नहीं आ सकता है। इसलिए, किसी भी काम को करने में पहले जैसी जल्दबाजी और आसानी की उम्मीद आपको निराश ही करेगी। हाँ, लगभग पहले जैसा होने के लिए कुछ टिप्स जरूर अपनाएं, जिससे चीज़ें जल्दी ट्रैक पर लौट आएं -

1. गर्भनिरोधक का उपयोग न भूलें

तकनीकी रूप से, एक महिला बच्चे को जन्म देने के 3 सप्ताह बाद ही गर्भवती हो सकती है, भले ही वह स्तनपान करा रही हो। महिलाएं जन्म देने के बाद कमजोर हो जाती हैं, इसलिए डॉक्टर बच्चों में दो साल का अन्तर रखने की सलाह देते हैं। सी-सेक्शन के तुरंत बाद दूसरी प्रेगनेंसी गंभीर रूप से जटिल हो सकती है इसलिए सेक्स के दौरान सुरक्षित बर्थ कंट्रोल मेथेड जरूर अपनाएं।

2. सिजेरियन प्रसव से उबरना

सिजेरियन प्रसव से उबरना एक लम्बी प्रकिया है। केवल शारीरिक रूप से ही नहीं बल्कि मानसिक रूप से भी सेक्स के लिए तैयार होना जरूरी है। सेक्स करने से पहले यह आवश्यक है कि आप अपने पति के साथ कुछ पल बिताएं। आप अपनी पुरानी यादों को ताजा करे जब आप पहली बार मिले थे। यह भावनात्मक एहसास आप दोनों को एक-दूसरे के करीब लायेगा। एक पति को इस बात में हमेशा अपनी पत्नी का साथ देना चाहिए कि वह अब हमारे बच्चे की मां है। मुझे हर पल उसका सहयोग और साथ देना है। यह बातें बहुत हद तक एक मां को मानसिक तौर से मजबूत करती हैं।

केगल एक्सरसाइज

केगल एक्सरसाइज पेल्विक एरिया की मांसपेशियों को मजबूत बनाती है लेकिन ऐसा अभ्यास करने के लिए भी आपको 4 सप्ताह का इन्तजार करना चाहिए। सी-सेक्शन के बाद एक्टिव रहने के लिए और भी व्यायाम किए जा सकते हैं लेकिन सभी विशेषज्ञ की देखरेख में होने चाहिए। इससे शरीर को न केवल स्फूर्ति मिलती है बल्कि यह शरीर को पुराना आकार देने में भी उपयोगी है।

सिजेरियन प्रसव के बाद संभोग से जुड़ी जटिलताएं

अगर किसी का सी-सेक्शन हुआ है, उसे संक्रमण और अन्य जटिलताओं के लक्षणों को इग्नोर नहीं करना चाहिए। नीचे लिखे लक्षण दिखने पर तुरंत डॉक्टर से सम्पर्क करना चाहिए -

  • 100.4° F . से अधिक बुखार
  • पेट में गंभीर दर्द
  • पेशाब लीक होना
  • योनि से भारी रक्तस्राव जो मैक्सी पैड को 1 घंटे में भिगोये
  • बड़े थक्के निकलना
  • टांकों से बदबूदार गंध
  • टांकों से खून बहना
  • टांकों के आसपास सूजन
  • निचले पैरों में सूजन या दर्द
  • पेशाब करते समय दर्द
  • उल्टी, दस्त, या मतली
  • सांस लेने में कठिनाई
  • पित्ती या दाने निकलना
  • तेज सिरदर्द
  • अस्पष्टीकृत चिंता, अवसाद, या घबराहट
  • फ्लू जैसे लक्षण दिखना


सी-सेक्शन के बाद दोबारा सेक्स शुरू करने का कोई तय समय नहीं है। हालांकि, गर्भाशय ग्रीवा को ठीक होने के लिए समय की आवश्यकता होती है, इसलिए डॉक्टर सुरक्षित रहने के लिए इन्तजार करने को कहते हैं। एक डॉक्टर आमतौर पर 6-सप्ताह के चेकअप के बाद आपको इसकी अनुमति दे सकता है, लेकिन कई महिलाएं अधिक समय तक इंतजार करना पसंद करती हैं। चीजों को धीरे-धीरे लें और संवाद करें कि क्या सुखद लगता है और क्या नहीं। सी-सेक्शन के 3 महीने बाद भी अगर सेक्स मुश्किल लगे, तो डॉक्टर से बात करें।

Related Articles:

नॉर्मल डिलीवरी के उपाय - हर महिला चाहती है कि उसकी डिलीवरी नॉर्मल हो और वो जल्दी प्रसव पीड़ा से ठीक हो जाए लेकिन इसके लिए क्या करना जरूरी है, यह जानने के लिए इसे जरूर पढ़ें।

डिलीवरी के शुरूआती लक्षण क्या हो सकते हैं ? - प्रेगनेंसी टेस्ट से गर्भावस्था की पुष्टि होती है लेकिन कुछ लक्षण भी आपको इसकी जानकारी दे सकते हैं -

डिलीवरी के बाद घी क्यों खाते हैं - शिशु को जन्म देने के बाद घी का सेवन क्यों जरूरी है और कितनी मात्रा में लेना चाहिए , यह जानने के लिए दिए गए लिंक पर क्लिक करें -

Banner Image Source: freepik

#babychakrahindi
logo

Select Language

down - arrow
Personalizing BabyChakra just for you!
This may take a moment!